Monday, August 26, 2019

Breaking News

   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||   दिल्ली: प्रगति मैदान के पास निर्माणाधीन इमारत में लगी आग    ||   मध्य प्रदेश: टेरर फंडिंग मामले में 5 हिरासत में, जांच जारी     ||   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||

PM मोदी का रुख देख बदले 'दीदी" के सुर, कहा- जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के न समर्थन में न विरोध करते हैं 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
PM मोदी का रुख देख बदले

नई दिल्‍ली । मोदी सरकार के साहसिक फैसलों को देखने के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के सुर बदलते नजर आ रहे हैं। जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्‍म करने पर ममता बनर्जी ने मंगलवार को अपनी प्रतिक्रिया में कहा- हम कश्‍मीर से अनुच्‍छेद 370 हटाने का न तो समर्थन करते हैं और ना ही विरोध करते हैं । इस दौरान उन्‍होंने कहा - जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती और उमर अब्‍दुल्‍ला को हिरासत में लिया गया है, यह गलत है । वे कोई आतंकी नहीं है, उन्हें जल्द से जल्द रिहा किया जाना चाहिए । 

विदित हो कि मोदी सरकार के हर फैसले के विरोध में खड़े होने वाली ममता बनर्जी ने जहां तीन तलाक बिल को लेकर अपना अड़ियल रुख बनाए रखा था , वहीं धारा 370 को लेकर भी उनकी बोली कड़वी ही नजर आई थी, लेकिन मोदी सरकार के रुख को भांपने के बाद अब उन्होंने मोदी सरकार के फैसले पर कटाक्ष करने की शायद हिम्मत नहीं रही । शायद यही कारण है कि वह जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने का न खुलकर समर्थन कर पाईं और न ही मोदी सरकार के फैसले का विरोध । 


ममता ने इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि कश्‍मीर से धारा 370 हटाने से पहले स्‍थानीय लोगों से बातचीत करनी चाहिए थी ।स बारे में फारूक अब्‍दुल्‍ला को भी नहीं बताया गया। सरकार को अपने फैसले से पहले राज्य की आवाम को अपने फैसले से अवगत करवाना चाहिए था ।  

Todays Beets: