Thursday, January 23, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

पाकिस्तानी PM इमरान खान को भारत आने का न्योता देगी मोदी सरकार  , जानिए कारण

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पाकिस्तानी PM इमरान खान को भारत आने का न्योता देगी मोदी सरकार  , जानिए कारण

नई दिल्ली । मोदी सरकार इस साल के अंत में पड़ोसी देश पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को भारत आने का न्योता दे सकते हैं । असल में साल के अंत में इस बार भारत शंघाई सहयोग संगठन (SCO) की मेजबानी करेगा, जिसके लिए मोदी सरकार,  सदस्य देश के राष्ट्राध्यक्ष होने के नाते इमरान खान को इस समिट में आने का न्योता भेजेगी । हालांकि शंघाई सहयोग संगठन में शामिल देशों के विदेश मंत्री इस बैठक में हिस्सा लेते हैं , लेकिन कुछ देशों के प्रधानमंत्री भी इसमें हिस्सा लेते हैं । भारत की बात की जाए तो उसकी तरफ से सरकारों के प्रमुखों की बैठक में विदेश मंत्री हिस्सा लेते हैं, जबकि SCO राष्ट्रप्रमुखों की मीटिंग में प्रधानमंत्री शिरकत करते हैं । अब क्योंकि पाकिस्तान भी SCO का सदस्य है, ऐसे में आने वाले समय में यह देखना होगा कि पाकिस्तान की ओर से इस बैठक में कौन आता है । 

बता दें कि जून 2019 में SCO समिट बिश्केक में हुआ था , जिसमें पीएम मोदी ने शिरकत की थी । उस दौरान पीएम ने वहां आतंकवाद के मुद्दे पर एकजुट होने की अपील की थी । पीएम मोदी ने अपने भाषण में सदस्यों देशों से आह्वान किया था कि आतंकवाद के मुद्दे पर इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस बुलानी होगी और आतंकवाद का सफाया करने के लिए सबको एक होने की जरूरत है ।


बहरहाल ,इस साल SCO समिट के लिए भारत को मौका मिला है ।  हाल ही में SCO के महासचिव व्लादिमीर नोरोव भारत दौरे पर थे, जिन्होंने समिट की तैयारियों का जायजा लिया । 

आपको बता दें कि वर्ष 2001 में SCO का गठन किया गया था । इसकी स्थापना चीन, रूस, कजाकस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान ने मिलकर की. इस संगठन का मकसद आतंकवाद को रोकना और आर्थिक व सांस्कृतिक सहयोग बढ़ाना था । भारत और पाकिस्तान को इस संगठन में वर्ष 2017 में सदस्य देश के तौर पर शामिल किया गया । हालांकि इससे पहले 2005 से ही भारत SCO में ऑब्जर्वर के तौर पर शिरकत कर रहा । 

Todays Beets: