Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

मोदी सरकार देने जा रही है एक ओर 'झटका' , 10 लाख से ज्यादा नकद निकासी पर लगेगा टैक्स!

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मोदी सरकार देने जा रही है एक ओर

नई दिल्ली । केंद्र की सत्ता पर एक बार फिर से मोदी सरकार आ चुकी है । ऐसे में एक बार फिर से वह कालाधन और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए अपनी नई व्यवस्थाओं को लागू कर सकती है। इस सब के बीच खबर है कि अगर आप डिजिटल भुगतान के बजाए नकद निकासी और नकद लेन-देन में ज्यादा सक्रिय रहते हैं, तो आपको नकदी निकालने पर टैक्स देना पड़ा सकता है । एक रिपोर्ट के मुताबिक , अगर आप नकद के जरिए लाखों का लेन देन करते हैं तो आने वाले समय में आपकी परेशानी बढ़ सकती है । सरकार नकद निकालने पर टैक्स लगाने की योजना बना रही है । रिपोर्ट के मुताबिक , आने वाले समय में 1 साल में 10 लाख रुपये से ज्यादा की नकदी निकालने वालों पर टैक्स लगेगा । सरकार का मानना है कि देश के अधिकांश लोगों को प्रतिवर्ष 10 लाख रुपये नकदी निकासी की जरूरत नहीं होती ।

LIVE कठुआ गैंगरेप कांड - पठानकोट कोर्ट ने 6 आरोपियों को दोषी करार दिया, विशाल को किया बरी

असल में इस मुद्दे को लेकर मोदी सरकार में मंथन का दौर शुरू हो गया है । TOI की एक रिपोर्ट के मुताबिक , सरकार ने प्रतिवर्ष 10 लाख रुपये से ज्यादा की निकासी करने वालों पर टैक्स लगाने की योजना बनाई है । हालांकि इस प्लान को अभी अंतिम रूप नहीं दिया गया है । रिपोर्ट के मुताबिक , 50 हजार रुपये से अधिक की रकम जमा करने की स्थिति में पैन कार्ड अनिवार्य है य़। उसी तरह मोटी रकम की लेनदेन पर आधार प्रमाणीकरण को अनिवार्य करने का प्रस्ताव भी विचाराधीन है ।

पाकिस्तानियों को मिली 30 जून तक की डेड लाइन , अपनी बेनामी संपत्ति और कालेधन का कर दें खुलासा, नहीं तो...

हालांकि वर्ष 2016 में आंध्र प्रदेश के तत्कालीन सीएम एन चंद्रबाबू नायडू की अध्यक्षता में मुख्यमंत्रियों के एक उच्च-स्तरीय पैनल ने भी 50,000 रुपये से अधिक की निकासी के लिए टैक्स को फिर से लगाने की सिफारिश की थी । सरकार यह योजना फैसला नकदी के कम इस्तेमाल के साथ डिजिटल इंडिया अभियान को आगे बढ़ाने और कालेधन पर अंकुश लगाने के लिए बना रही है ।

SBI के ग्राहक हैं तो ध्यान दें, बैंक 1 जुलाई से बदल रहा है अपना ये नियम , जानिए आप कितना प्रभावित होंगे

बहरहाल , आगामी 5 जुलाई को वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला आम बजट पेश करेंगी । इस बजट में कैश निकासी को लेकर क्‍या संकेत दिए जाएंगे, यह इस योजना का प्रारूप बताने में कारगर साबित होंगे।


 

 

 

 

 

 

Todays Beets: