Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

इमरान खान ने देर रात फिर किया राष्ट्र को संबोधित , 24000 अरब के कर्ज की जांच के लिए उच्च स्तरीय आयोग गठित

अंग्वाल न्यूज डेस्क

इमरान खान ने देर रात फिर किया राष्ट्र को संबोधित , 24000 अरब के कर्ज की जांच के लिए उच्च स्तरीय आयोग गठित

नई दिल्ली । पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मंगलवार को देर रात एक बार फिर राष्ट्र को संबोधित किया । इमरान ने सरकार का पहला बजट पेश होने और कई प्रमुख राजनेताओं की गिरफ्तारियों के बीच अपने देशवासियों को संबोधन में प्रतिज्ञा ली कि वह देश को कर्ज में डुबोने वाले चोरों' को किसी भी सूरत में नहीं छोड़ेंगे । इस दौरान , इमरान खान ने वर्तमान राजनीतिक और आर्थिक हालात को लेकर देशवासियों को विश्वास में लेने की कोशिश की. पाकिस्तानी पीएम ने देश की आर्थिक तंगहाली के लिए राजनीतिक दलों पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) और पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (पीएमएल-एन) को जिम्मेदार ठहराया ।

घंटों की देरी से शुरू हुआ संबोधन

राष्ट्र के नाम इमरान खान का संबोधन पहले 9.15 बजे होना था लेकिन बाद में इसका समय बदलकर रात 10.30 बजे कर दिया गया , लेकिन इमरान खान ने आधी रात को अपना संबोधन शुरू किया । इस दौरान इमरान बोले- एक तरफ इमरान खान की सरकार गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रही है, दूसरी तरफ कई राजनेताओं की गिरफ्तारियों से सियासी हंगामा भी मचा हुआ है । मंगलवार को विपक्षी दल के नेता हमजा शहबाज और MQM संस्थापक अल्ताफ हुसैन की गिरफ्तारी हो चुकी है ।  इससे पहले सोमवार को पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी को भी गिरफ्तार किया गया था ।

उच्च स्तरीय आयोग गठित होगा

इमरान ने अपने संबोधन में एक उच्च स्तरीय जांच आयोग बनाने का ऐलान किया । उन्होंने कहा कि इस जांच आयोग का एकमात्र एजेंडा होगा । यह आयोग जांच करेगा कि आखिर विपक्षी दलों ने 10 वर्षों में पाकिस्तान पर 24000 अरब का कर्ज कैसे चढ़ा दिया? इसमें सारी बड़ी जांच संस्थाओं को भी शामिल किया जाएगा। उन्होंने आगे कहा, "यह आयोग सत्ता में रहे लोगों की पूरी जांच करेगा और एक रिपोर्ट तैयार करेगा ताकि इस देश को कोई भी दोबारा मुश्किल में डालने की हिम्मत ना कर सके।"

शरीफ-जरदारी के बीच समझौता


प्रधानमंत्री इमरान ने कहा कि नवाज शरीफ और जरदारी के बीच एक समझौता हो गया कि दोनों बारी-बारी से पांच वर्षों के लिए शासन करेंगे और एक-दूसरे के खिलाफ कुछ नहीं कहेंगे । इन दोनों की साझेदारी की वजह से 6000 अरब रुपए का कर्ज 30,000 अरब रुपए तक पहुंच गया । मैं सवाल पूछता हूं कि कर्ज के पैसे का क्या किया गया?. जब कर्ज नियंत्रण से बाहर हो गया तो क्या हुआ? पाकिस्तान के तीन राजनीतिक घरानों की दौलतों में बेशुमार बढ़ोतरी हुई. 2008 के बाद पाकिस्तान पर जो कर्ज बढ़ा, उसके पीछे सबसे बड़ी वजह भ्रष्टाचार थी. जब कर्ज बढ़ रहा था तो उनकी दौलत 85 फीसदी की दर से बढ़ रही थी।

पाकिस्तान एक महान देश बनेगा

इमरान ने अपने संबोधन की शुरुआत रियासत-ए-मदीना के जिक्र के साथ किया । उन्होंने कहा, मेरा नया पाकिस्तान रियासत-ए-मदीना पर आधारित होगा. मेरे शब्द याद रखिएगा कि पाकिस्तान एक महान देश बनेगा । उन्होंने कहा - मुझे विरोध-प्रदर्शनों से ब्लैकमेल नहीं किया जा सकता है । अगर मेरी जान भी चली जाती है तो मैं चोरों को अकेला नहीं छोड़ूंगा. मैंने अल्लाह से एक मौका मांगा था और मैं उन्हें नहीं छोड़ूंगा ।

लोग पूछते हैं कहा है नया पाकिस्तान

इमरान ने कहा - जब से मैं सत्ता में आया हूं, तभी से लोग मुझसे पूछते हैं कि नया पाकिस्तान कहां है? मैं उन्हें बता दूं कि मदीना पहले दिन से ही मदीना नहीं बन गया था, एक कल्याणकारी राज्य बनने में उसे भी वक्त लगा था । मैं अल्लाह के प्रति शुक्रगुजार हूं कि इन लोगों को जेल हो गई है, किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी कि ऐसा हो सकता है । आज न्यायिक व्यवस्था स्वतंत्र है। जांच एजेंसियां हमारी नहीं हैं । हमने किसी की नियुक्ति नहीं की है ।  यही नया पाकिस्तान है और आप संस्थाओं में इस स्वतंत्रता को महसूस कर सकेंगे ।

 

Todays Beets: