Saturday, May 30, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

संसद LIVE : मोदी - शाह को 'घुसपैठिए' कहने पर लोकसभा में हंगामा, भाजपा बोली - माफी मांगे कांग्रेसी नेता

अंग्वाल न्यूज डेस्क
संसद LIVE : मोदी - शाह को

नई दिल्ली । संसद के शीतसत्र में सोमवार को दोनों सदनों में हैदराबाद गैंगरेप कांड के मुद्दे पर जमकर हंगामा हुआ । सत्ता पक्ष के साथ विपक्षी दलों के नेताओँ ने इस घटना की जमकर निंदा करते हुए अब ऐसी घटनाओं के लिए कठोर से कठोर कानून बनाने की बात कही । इससे इतर , कांग्रेसी  नेता अधीर रंजन चौधरी के विवादित बयान के चलते संसद में भाजपा ने विपक्षी दल को आड़े हाथ लेते हुए उनसे माफी की मांग उठाई । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को घुसपैठिए बताने वाले कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी के बयान पर लोकसभा में हंगामा हुआ । भाजपा सांसदों ने अधीर रंजन से माफी मांगने की बात कही । इस पर अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि भाजपा सांसदों को पहले संदर्भ को समझना चाहिए । बिना समझे हमला करना सही नहीं है । इस मुद्दे पर सदन में जमकर हंगामा हुआ , जिसके बाद लोकसभा स्पीकर ओम बिडला ने सदन को 2.15 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया । 

जानिए क्या बोले थे - अधीर रंजन चौधरी

बता दें कि अधीर रंजन चौधरी ने संसद में कहा था- 'एनआरसी-एनआरसी नाम लेते लेते एक माहौल पैदा किया जा रहा है कि आम लोग सोच रहे हैं कि हमारा क्या होगा । सभी कागजात लेकर नहीं बैठे रहते हैं , क्योंकि ये हमारा देश है, वोट डालते हैं । गरीब-आदिवासी जो हैं, पढ़े-लिखे नहीं हैं । उनके पास कागजात है क्या? सुबह उठते हैं और सोचते हैं कि रात का खाना कैसे होगा । कागजात के लिए सोचने का समय नहीं है. वो लोग डरे हैं। चौधरी बोले - वो दिखाना चाहते हैं कि मुसलमान को भगाएंगे । उन्हें भगाने का हिम्मत उनमें नहीं है ।  मुसलमान हमारे देश के नागरिक अगर हैं तो वो क्यों भागें? हिंदुस्तान सभी के लिए है । हिंदू-मुसलमान सभी के लिए है । सभी के सहयोग से हिंदुस्तान बना है , लेकिन वो दिखाना चाहते हैं कि हिंदू को रहने देंगे और मुसलमान को भगा देंगे । ये हिंदुस्तान किसी की जागीर है क्या? सभी का अधिकार समान है । मैं तो यह कह सकता हूं कि अमित शाह जी, नरेंद्र मोदी जी आप खुद घुसपैठिए हैं , घर आपका गुजरात और आ गए दिल्ली तो आप खुद माइग्रेंट हैं । 

शीतकालीन सत्र का 11वां दिन

बता दें कि संसद के शीतकालीन सत्र का सोमवार को 11वां दिन है । इस दौरान संसद के दोनों सदनों में हैदराबाद के गैंगरेप कांड पर काफी हंगामा हुआ । सत्ता पक्ष और विपक्ष के नेताओँ ने इस घटना की जमकर निंदा करते हुए सरकार के सामने अब कठोर से कठोर कानून की मांग उठाई । विपक्षी सांसदों ने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की । इस दौरान सांसद जया बच्चन ने कहा कि दोषियों की सार्वजनिक लिंचिंग होनी चाहिए । 


ऐसे अपराध की एक स्वर में निंदा

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि भारत की संसद ऐसी घटनाओं को लेकर हमेशा चिंतित रही है और सरकार ने भी इस विषय पर कठोर कार्रवाई हो ऐसा सदन को अवगत कराया है । उन्होंने कहा कि हम ऐसे अपराध की एक स्वर से निंदा करते हैं । इस पर चर्चा करने के लिए सारा सदन सहमत है । देश के किसी राज्य में ऐसी घटना की पुनरावृत्ति न हो, हम ऐसी अपेक्षा करते हैं ।

रक्षामंत्री बोले- कठोर कानून बनाने को हम तैयार

इस दौरान लोकसभा में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि घटना से पूरा देश शर्म हुआ है । सभी ने निंदा की है । इसमें जो भी अपराधी हैं उसको सजा मिले । राजनाथ सिंह ने कहा कि निर्भया कांड के बाद एक कठोर कानून बना था, लेकिन उसके बाद भी जघन्य कृत्य हो रहे हैं । कठोर कानून बनाने को हम तैयार हैं. उन्होंने कहा कि फैसला स्पीकर साहब पर  छोड़ता हूं, जिस कानून को बनाने की सहमति बनेगी हम उसे बनाने के लिए तैयार हैं ।

 

Todays Beets: