Thursday, January 23, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

LIVE - पेंटागन ने कहा - हमारे सैन्य ठिकानें हाई अलर्ट पर , प्रारंभिक युद्ध क्षति का कर रहे आकलन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
LIVE - पेंटागन ने कहा - हमारे सैन्य ठिकानें हाई अलर्ट पर , प्रारंभिक युद्ध क्षति का कर रहे आकलन

नई दिल्ली । ईरान की इस्लामिक रिवोल्यूशन गार्ड कोर्प्स (IRGP) ने दावा किया कि उसने इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर हमला कर उसके कई लड़ाकू विमानों को ध्वस्त कर दिया है । आईआरजीपी की बैलस्टिक मिसाइलों द्वारा निशाना बनाए जाने के बाद इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर खड़े लड़ाकू विमानों में आग लग गई । वहीं दावा किया गया है कि 20 जवानों के साथ 80 लोगों की इस हमले में मौत हुई है । वहीं इस घटना के बाद पेंटागन ने एक बयान में कहा कि "यह स्पष्ट है कि इन मिसाइलों को ईरान ने दागा था और अल-असद और इरबिल में अमेरिकी सैन्य और गठबंधन सैन्‍यकर्मियों वाले कम से कम दो इराकी सैन्य ठिकानों को निशाना बनाया। अमेरिकी रक्षा विभाग ने कहा कि अमेरिका प्रारंभिक युद्ध क्षति आकलन पर काम कर रहा है और आगे के हमलों को रोकने के लिए ठिकानों को हाई अलर्ट पर रखा गया है । हालांकि ईरान ने इस दौरान धमकी देते हुए कहा कि अगर स्थिति बिगड़ी तो हम अमेरिका के मित्र देशों (इजराइल-यूएई) पर भी हमला कर सकते हैं।

बता दें कि ईरान के इस हमले पर पेंटागन के मुख्य प्रवक्ता जोनाथन हॉफमैन ने स्थिति को लेकर बयान जारी किया । हमले के बाद पेंटागन ने कहा कि यह अभी भी नुकसान का आकलन कर रहा है । इससे पहले भी अमेरिका की ओर से आए एक बयान में कहा गया था कि - अमेरिकी राष्ट्रपति के निर्देश पर विदेश में रह रहे अमरीकी सैन्यकर्मियों की रक्षा के लिए कासिम सुलेमानी को मारने का कदम उठाया गया है । यह हवाई हमला भविष्य में ईरानी हमले की योजनाओं को रोकने के मकसद से किया गया. अमेरीका अपने नागरिकों की रक्षा के लिए, दुनियाभर में भी चाहे वे जहां भी हैं । सभी आवश्यक कार्रवाई करना जारी रखेगा।"


दरअसल, बीते सप्‍ताह ईरान के इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स (आईआरजीसी) कुद्स फोर्स के प्रमुख जनरल कासिम सुलेमानी इराक की राजधानी बगदाद में अमेरिकी हवाई हमले में मौत हो गई थी । हमले में हशद शाबी या इराकी पॉपुलर मोबलाइजेशन फोर्सेज (पीएमएफ) के डिप्टी कमांडर अबू महदी अल-मुहांदिस भी सुलेमानी के साथ मारे गए थे । बगदाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट रोड पर उनके वाहन को निशाना बनाया गया था । 

 

Todays Beets: