Monday, July 22, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

अयोध्या विवाद पर शिया वक्फ बोर्ड का बड़ा बयान, कहा-जमीन हमारी है और हम राम मंदिर को दान देना चाहते हैं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अयोध्या विवाद पर शिया वक्फ बोर्ड का बड़ा बयान, कहा-जमीन हमारी है और हम राम मंदिर को दान देना चाहते हैं

नई दिल्ली। राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही है। शुक्रवार को इस मामले में सुनवाई के दौरान शिया वक्फ बोर्ड ने कहा कि मुसलमानों के हिस्से की जमीन को वह राम मंदिर को सौंपना चाहता है। शिया वक्फ बोर्ड की तरफ से पेश हुए वकील ने कहा कि बाबरी मस्जिद का निर्माण मीर बाकी ने कराया था जो कि शिया मुसलमान था। ऐसे में सुन्नी पक्षकारों का इस पर कोई हक नहीं बनता है। बोर्ड ने कहा कि इलाहबाद हाई कोर्ट द्वारा मुसलमानों की दी गई एक तिहाई जमीन को राम मंदिर बनाने के लिए दान किया जाएगा। हम इस मामले को शांति के साथ सुलझाना चाहते हैं। वहीं सुन्नी पक्ष की ओर से पेश हुए वकील राजीव धवन ने आगे कहा, जैसे तालिबान ने बामियान को नष्ट कर दिया था। ठीक उसी तरह हिंदू तालिबान ने बाबरी मस्जिद को नष्ट कर दिया.।

गौरतलब कि इस मामले पहले हुई सुनवाई में उत्तरप्रदेश सरकार ने मुस्लिम पक्षकार इस मामले को टालने की कोशिश कर रही है। उत्तरप्रदेश सरकार ने कहा कि सालों से लंबित इस मामले में मुस्लिम पक्षकार 1994 में दिए गए उस फैसले पर टिपण्णी करने की गुहार लगा रहे हैं जिसमें यह कहा गया है कि मस्जिद में नमाज पढ़ना इस्लाम का अभिन्न अंग नहीं है। 

ये भी पढ़ें - जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण पर मलेशिया सरकार में मतभेद, मंत्री बोले-जल्द निपटेगा मामला


यहां बता दें कि यूपी सरकार की ओर से पेश हुए एडिशनल साॅलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि सालों से लंबित इस मामले में अभी भी फैसले का इंतजार किया जा रहा है। उन्हांेंने कहा कि कोर्ट ने इस मामले पर 1994 में टिपण्णी की थी  लेकिन सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में न तब कोई याचिका दायर की गई थी और न ही अब दायर की गई है। एडिशनल साॅलिसिटर जनरल ने कहा कि इस मामले में कागजी कार्रवाई तो अभी कुछ दिनों पहले पूरी हुई है और सुनवाई शुरू हुई है। उन्होंने कहा कि अब कहा जा रहा है कि पहले इस टिप्पणी पर पुनर्विचार करने की दरकार है और इस मसले को बड़ी पीठ के पास विचार करने के लिए भेजा जाना चाहिए।  

 

Todays Beets: