Tuesday, June 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

लोकसभा चुनाव में ‘बुआ-बबुआ’ का होगा गठबंधन, कांग्रेस को नहीं मिला बुलावा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लोकसभा चुनाव में ‘बुआ-बबुआ’ का होगा गठबंधन, कांग्रेस को नहीं मिला बुलावा

लखनऊ। लोकसभा चुनाव को लेकर उत्तरप्रदेश में राजनीति तेज हो गई है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बुआ और बबुआ यानी की बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के बीच गठबंधन का रास्ता पूरी तरह से साफ हो गई है। बीएसपी सुप्रीमो के शुक्रवार को लखनऊ पहुंचने पर यह कयास और तेज हो गए हैं। पहले इस बात के कयास लगाए जा रहे थे कि मायावती के जन्मदिन के मौके पर गठबंधन का ऐला किया जा सकता है लेकिन अब खबर है कि कल यानी की शनिवार की दोपहर 12 बजे दोनों नेता साझा प्रेस कांफ्रेंस कर गठबंधन के साथ सीटों के बंटवारे पर भी मुहर लगा सकते हैं। खबरों के अनुसार कांग्रेस को इस गठबंधन से अलग रखा गया है और प्रेस कांफ्रेंस में उन्हें बुलाया भी नहीं गया है।

गौरतलब है कि अक्सर ऐसा कहा जाता है कि दिल्ली की सत्ता का रास्ता यूपी से ही निकलता है। ऐसे में सपा-बसपा का गठबंधन भाजपा के लिए थोड़ी मुश्किलें पैदा कर सकती हैं। हालांकि भाजपा नेताओं का दावा है कि उनके पास जनता के सामने जवाब देने के लिए सिर्फ मोदी को हटाने के अलावा कोई भी मुद्दा नहीं है। शनिवार को सपा-बसपा लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन का ऐलान करने के साथ सीटों के बारे में भी खुलासा कर सकते हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि गठबंधन में विधानसभा चुनाव में सपा के साथ मिलकर लड़ने वाली कांग्रेस को कोई जगह नहीं दी गई है। हालांकि अजीत सिंह की पार्टी आरएलडी को दोनों पार्टियां अपने साथ जोड़ सकती हैं। अजीत सिंह की पार्टी 5 सीटों की मांग पर अड़ी है। अब देखना है कि कल होने वाली प्रेस कांफ्रेंस में ‘बुआ-बबुआ’ क्या ऐलान करते हैं। 


ये भी पढ़ें - पीएम मोदी को लेकर कांग्रेस नेता का बड़ा बयान, तानाशाह हिटलर से की तुलना

यहां बता दें कि इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने यूएई के दौरे से पहले गल्फ न्यूज को दिए इंटरव्यू में कहा था कि यूपी में उन्हें कोई कमकर नहीं आंके। ऐसा माना जा रहा है कि हाल के विधानसभा चुनावों मंे कांग्रेस को 3 राज्यों में मिली भारी जीत के बाद अति आत्मविश्वास के कारण प्रदेश में अकेले दम पर चुनाव लड़ने के संकेत दिए थे। अब सपा-बसपा के गठबंधन पर भाजपा का कहना है कि उन्हें पता था कि अवसरवादी पार्टियां चुनाव के समय साथ आ सकते हैं।  

Todays Beets: