Tuesday, June 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

दहेज प्रताड़ना को लेकर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, कहा- गिरफ्तारी का अधिकार पुलिस के पास ही रहेगा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दहेज प्रताड़ना को लेकर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, कहा- गिरफ्तारी का अधिकार पुलिस के पास ही रहेगा

नई दिल्ली। दहेज प्रताड़ना को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को एक अहम फैसला सुनाया है। कोर्ट की 3 सदस्यीय बेंच ने कहा कि इस मामले में गिरफ्तारी का अधिकार पुलिस के पास ही होना चाहिए। कोर्ट ने दहेज प्रताड़ना की शिकायत के निपटारे के लिए वेलफेयर कमेटी बनाने से भी इंकार कर दिया है। यहां बता दें कि सर्वोच्च अदालत ने सभी राज्यों के डीजीपी को दहेज प्रताड़ना के खिलाफ जागरूकता अभियान चलाएं।

गौरतलब है कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट की 2 सदस्यीय बेंच ने दहेज प्रताड़ना के खिलाफ गिरफ्तारी का आदेश दिया था और समस्या के समाधान के लिए सिविल सोसाइटी की एक कमेटी बनाने का आदेश दिया था। इस आदेश के खिलाफ अदालत में चुनौती दी गई थी। यहां बता दें कि शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने 2 सदस्यीय बेंच के आदेश को संशोधित करते हुए दहेज प्रताड़ना के मामले में गिरफ्तारी का अधिकार पुलिस को दे दिया है और सिविल सोसाइटी की कमेटी बनाने के आदेश को हटा दिया है।


ये भी पढ़ें - वायरल वीडियो - युवती को बेरहमी से पीटने वाले दरोगा के बेटे पर होगी कार्रवाई , उदासीन पुलिस को...

यहां बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कोर्ट इस तरह आपराधिक मामले की जांच के लिए सिविल कमेटी नियुक्त नहीं कर सकता, इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती। कोर्ट ने कहा कि दहेज प्रताड़ना के खिलाफ दोनों पक्षों में संतुलन होने बेहद जरूरी है। इसके साथ ही कोर्ट ने कहा कि अगर इस मामले में पति के पक्ष से अगर अग्रिम जमानत की अर्जी दी जाती है तो उसकी सुनवाई उसी दिन हो सकती है। बड़ी बात यह है कि अदालत में दायर चुनौती याचिका में कहा गया था कि कोर्ट को कानून बनाने का कोई अधिकार नहीं है। कानून बनाने का मकसद महिलाओं को न्याय दिलाना है लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद इहेज प्रताड़ना के खिलाफ गिरफ्तारी बंद हो गई थी। 

Todays Beets: