Thursday, July 18, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

सुप्रीम कोर्ट LIVE - कर्नाटक के स्‍पीकर को चीफ जस्टिस की फटकारा, बोले- क्‍या कोर्ट के अधिकारों को चुनौती दे रहे हैं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट LIVE - कर्नाटक के स्‍पीकर को चीफ जस्टिस की फटकारा, बोले- क्‍या कोर्ट के अधिकारों को चुनौती दे रहे हैं

नई दिल्‍ली । सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार को कर्नाटक के बागी विधायकों की याचिका पर सुनवाई हुई । कोर्ट में बागी विधायकों के वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि कर्नाटक के स्पीकर रमेश कुमार इन विधायकों का इस्तीफा स्वीकार करने के लिए बहानें बना रहे हैं। वो बार- बार नई बात छेड़ते हुए इन विधायकों को अयोग्य घोषित करने में जुटे हैं। उन्होंने कहा कि किसी विधायक द्वारा इस्तीफे देने संबंधित फैसले पर विधानसभा में स्पीकर का कोई लेना देना नहीं है । न ही उनके अधिकार क्षेत्र से कोई लेना देना है । स्पीकर इस पूरे घटनाक्रम के चलते इस्तीफे की प्रक्रिया को लटकाना चाहते हैं और इसी क्रम में उन्हें अयोग्य घोषित करना चाहते हैं। ताकि उनके इस्तीफा बेकार हो जाएं। इस बीच जब स्पीकर की ओर से अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने दलील देना शुरू किया तो चीफ जस्टिस बोले- क्या स्पीकर सुप्रीम कोर्ट के अधिकारों को चुनौती दे रहे हैं ?  इस पर वकील सिंघवी ने कहा कि विधायकों के इस्तीफे देने का मकसद अयोग्य करार दिए जाने की कार्रवाई से बचना है । 1974 में संविधान संसोधन के जरिये ये साफ कर दिया गया था कि इस्तीफे पर फैसला लेने से पहले ये सुनिश्चित करना जरूरी है वो सही हैं । 

Google सुन रहा है आपकी निजी बातें , कंपनी ने स्पीकार किया भाषा वैज्ञानिक का दावा , यूजर्स की गोपनियता पर उठे सवाल

इसी क्रम में शुक्रवार को कर्नाटक संकट में एक नया मोड़ आया । पार्टी के करीब 400 कांग्रेसी कार्यकर्ता सुप्रीम कोर्ट पहुंचे और उन्होंने कर्नाटक के बागी विधायकों के खिलाफ अर्जी दाखिल कर दी । याचिका में जल्द सुनवाई की मांग करते हुए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कोर्ट से कहा, 'हमें भी सुना जाए । सुप्रीम कोर्ट ने इस पर जवाब देते हुए कहा, 'पहले बागी विधायकों की याचिका पर सुनवाई होगी, तब आपको भी सुन लेंगे।


 

विदित हो कि कर्नाटक के 10 बागी विधायकों के इस्तीफे को लेकर स्पीकर ने अड़ंगा लगाते हुए कहा था कि उनके इस्तीफे नियमानुसार नहीं है , ऐसे में वह उनसे मिलकर अपना इस्तीफा दें। इस सब के बीच स्पीकर पर इन विधायकों को अयोग्य घोषित किए जाने की साजिश रचने के आरोप लगे । ऐसे में बागी विधायक सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए और सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर को आदेश दिया कि वे गुरुवार शाम 6 बजे तक इन विधायकों से मिले और इस मामले को सुलझाएं । लेकिन बाद में स्पीकर ने कोर्ट में अर्जी लगाते हुए थोड़ा समय मांगा था । इस सब के बाद शुक्रवार को बागी विधायकों की याचिका पर सुनवाई हो रही है ।

ममता बनर्जी ने विधायकों से कहा, अपनी गलतियों के जनता से मांगे माफी , पार्टी नेताओं को दिए 7 कॉरपोरेट मंत्र

Todays Beets: