Thursday, July 18, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

सुप्रीम कोर्ट का बागी विधायकों को आदेश - कर्नाटक के स्पीकर से मिलें, स्पीकर को कहा- आज ही लें इस्तीफों पर फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट का बागी विधायकों को आदेश - कर्नाटक के स्पीकर से मिलें, स्पीकर को कहा- आज ही लें इस्तीफों पर फैसला

नई दिल्‍ली । कर्नाटक की कुमार स्वामी सरकार के 10 बागी विधायकों की याचिका पर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई । इस दौरान कोर्ट ने विधायकों को निर्देश दिए कि वह अपने इस्‍तीफे के निर्णय संबंधी सूचना को गुरुवार शाम 6 बजे तक स्‍पीकर के समक्ष पेश होकर रखें। कोर्ट ने स्पीकर को निर्देश दिए कि वह भी इस मुद्दे पर आज ही फैसला लें । इसके बाद कोर्ट ने कहा कि स्पीकर के आदेश की कॉपी शुक्रवार को कोर्ट में पेश की जाए । इतना ही नहीं सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के डीजीपी को आदेश दिए कि वह स्पीकर से मिलने के लिए जाने वाले बागी विधायकों को पूरी सुरक्षा प्रदान करें । 

कर्नाटक संकट -  स्पीकर रमेश कुमार बोले - मुझसे मिलने कोई विधायक नहीं आया , 13 में से 8 विधायकों के इस्तीफे नियमानुसार नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने बागी विधायकों की याचिका पर सुनवाई करते हुए जहां उन्हें स्पीकर से मिलने के लिए कहा , वहीं स्पीकर को भी निर्देश दिए कि वह इन विधायकों के इस्तीफे को लेकर फैसला आज ही लें । कोर्ट के इस फैसले को सत्‍तारूढ़ कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार के लिए झटका माना जा रहा है । विदित हो कि याचिकाकर्ता बागी विधायकों ने दलील दी थी कि मुख्यमंत्री अल्पमत में हैं और विश्वास मत हासिल करने से इनकार कर रहे हैं। याचिकाकर्ताओं ने संविधान में प्रदत्त लोकतांत्रिक सिद्धांतों की रक्षा के लिए अपने असाधारण अधिकार को क्रियान्वित करने की मांग की । उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में बागी विधायकों का कहना था - विधायिका का कोई भी निर्वाचित सदस्य अपनी अंतरात्मा की आवाज या अन्य जरूरी परिस्थितियों के आधार पर अपनी सदस्यता से इस्तीफा देने का हकदार है ।


मोदी सरकार ने 312 केंद्रीय कर्मचारियों पर गिराई 'बिजली' , लापरवाही - कामचोरी के चलते किया जबरन रिटायर

वहीं कर्नाटक मुद्दे पर कांग्रेस ने राज्‍यसभा में हंगामा करते हुए सदन से वॉकआउट कर दिया । गोवा और कर्नाटक मामले पर गुरुवार को कांग्रेस ने संसद में प्रदर्शन भी किया। सोनिया गांधी और राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस नेताओं ने संसद स्थित महात्‍मा गांधी की प्रतिमा के सामने प्रदर्शन किया। इस दौरान उनके हाथ में 'लोकतंत्र बचाओ' लिखी तख्तियां भी थीं । 

 

Todays Beets: