Wednesday, June 26, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

कांग्रेस नेताओं को सुप्रीम कोर्ट ने दिया झटका, कमलनाथ और सचिन पायलट की अर्जी की खारिज 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कांग्रेस नेताओं को सुप्रीम कोर्ट ने दिया झटका, कमलनाथ और सचिन पायलट की अर्जी की खारिज 

नई दिल्ली। कांग्रेस के नेता कमलनाथ और सचिन पायलट को सुप्रीम कोर्ट ने एक झटका दिया है। दोनों नेताओं ने चुनाव आयोग को मतदाता सूची का मसौदा टेक्स्ट फॉर्मेट में उपलब्ध कराने के निर्देश देने की मांग की थी। इसके साथ ही दोनांे नेताओं ने मध्य प्रदेश और राजस्थान के आगामी विधानसभा चुनावों से पहले वीवीपीएटी मशीनों की औचक जांच करने और टेक्स्ट रूप में मतदाता सूची मुहैया कराने की मांग की थी। गौर करने वाली बात है कि न्यायमूर्ति ए के सीकरी और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की पीठ ने इस मामले में 8 अक्टूबर को सुनवाई पूरी की है। 

गौरतलब है कि इस मामले की सुनवाई के लिए कांग्रेस और चुनाव आयोग की ओर से पेश हुए वकीलों ने एक दूसरे पर आरोप लगाए।  कांग्रेस नेता कमलनाथ की ओर से दाखिल की गई अर्जी में कहा गया था कि पीडीएफ रूप की बजाय नियमों के मुताबिक टेक्स्ट रूप में मतदाता सूची प्रकाशित करने के निर्देश जारी किए जाने चाहिए और उन्हें अंतिम रूप से प्रकाशित करने से पहले सभी शिकायतों पर तेजी से फैसले लिए जाने चाहिए।


ये भी पढ़ें - पराली जलाने के ‘साइड इफैक्ट’, 15 अक्टूबर से दिल्ली में बढ़ेगी पार्किंग फीस

यहां बता दें कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने यह भी कहा था कि चुनाव आयोग को निर्देश दिया जाना चाहिए कि वह हर चुनाव क्षेत्र में 10 फीसदी मतदान केंद्रों में ईवीएम में डाले गए वोटों का मिलान वीवीपीएटी पर्चियों से औचक तौर पर किया जाना चाहिए।

Todays Beets: