Monday, August 10, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

फेसबुक ने विकसित की आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक, यूजर्स को आत्महत्या से बचाएगा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
फेसबुक ने विकसित की आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक, यूजर्स को आत्महत्या से बचाएगा

नई दिल्ली। सोशल मीडिया पर आत्महत्या के लाइव वीडियो के मामले के बाद फेसबुक ने इससे बचाव के तरीके निकालने के काम को तेज कर दिया है। फेसबुक ने एक ऐसा साॅफ्टवेयर, 'आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस' तैयार किया है जो आत्महत्या करने वाले यूजर्स के पोस्ट को स्कैन करने का काम शुरू कर दिया है। अमेरिका में इस साॅफ्टवेयर का परीक्षण भी कर लिया हैै। अब वह इसके विस्तार पर काम कर रहा है।

मानसिक सुविधा

आपको बता दें कि फेसबुक ने अपनी वाॅल पर आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) के जरिए उन पोस्ट की स्कैनिंग करना शुरू कर दिया है जो आत्महत्या के विचारों से प्रेरित थी। अब इस साॅफ्टवेयर के विस्तार का काम शुरू कर दिया है। इसके जरिए वह दूसरे देशों के यूजर्स की उन पोस्टों की खोज करेगी जिनमें आत्महत्या जैसे विचार आ रहे हों। फेसबुक ने यह भी कहा कि जरूरत पड़ने पर वह यूजर्स को मानसिक शांति की सुविधा भी उपलब्ध कराएगी। हालांकि फेसबुक ने इस साॅफ्टवेयर को लेकर फिलहाल अधिक तकनीकी जानकारी मुहैया नहीं कराई है।


ये भी पढ़ें - ग्राहकों की होगी बल्ले-बल्ले, एयरटेल ने लाॅन्च किया ‘सबकुछ मिलेगा-सबको मिलेगा प्लान’

एआई तकनीक

आपको बता दें कि फेसबुक उपाध्यक्ष गेयेई रोजेन ने बताया कि अमेरिका में इस साॅफ्टवेयर का परीक्षण सफल  रहा है। रोजेन के मुताबिक कंपनी अब उन देशों में सबसे पहले विस्तार कार्यक्रम के तहत काम करना शुरू करेगी जहां सबसे अधिक आत्महत्याएं होती हैं इनमें विकसित देश खासतौर पर शामिल हैं। फेसबुक का दावा है कि वह ‘एआई’ तकनीकी द्वारा यूजर्स की उन सभी पोस्टों की पहचान कर लेगी जिन में आत्महत्या की आशंका वाले विचार शामिल हों। 

Todays Beets: