Monday, January 25, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

चरमपंथी अब नहीं फैला पाएंगे सोशल मीडिया पर अफवाह, वैज्ञानिकों ने ढूंढ़ा तरीका

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चरमपंथी अब नहीं फैला पाएंगे सोशल मीडिया पर अफवाह, वैज्ञानिकों ने ढूंढ़ा तरीका

दिल्ली। अब आतंकवादी या फिर चरमपंथी सोशल मीडिया के जरिए अफवाह नहीं फैला पाएंगे। वैज्ञानिकों ने उन लोगों की पहचान करने का तरीका ढूंढ निकाला है। इस तरीके से सोशल मीडिया खातों पर आपत्तिजनक चीजें लिखने, बोलने या साझा करने से पहले ही उनकी पहचान मुमकिन हो सकेगी। गौर करने वाली बात है कि  उपभोक्ताओं को परेशान करने, नए सदस्यों की भर्ती करने और हिंसा भड़काने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले ऑनलाइन चरमपंथी समूहों की संख्या और उनका आकार बढ़ रहा है। मुख्य सोशल मीडिया साइट ऐसी प्रवृत्ति को रोकने की दिशा में काम कर रही है। 

गौरतलब है कि ट्विटर ने साल 2016 में आईएसआईएस से जुड़े 3 लाख 60 हजार खातों को बंद किया है। साइट के द्वारा एक खाता को रोक देने के बाद नया खाता खोलने या फिर एक साथ कई खातों को चलाने की संभावना काफी कम हो जाती है। यहां आपको बता दें कि मैसाच्यूसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) के वैज्ञानिक ने बताया कि सोशल मीडिया आज के समय में हर किसी के लिए एक बड़ा ताकतवर मंच बन गया है। लोग इसका इस्तेमाल ‘‘नफरत से भरे दुष्प्रचार फैलाने, हिंसा भड़काने और आतंकवादी हमलों को अंजाम देने के लिए करते हैं, जिससे यह आम लोगों के लिए खतरा बन गया है।’’

ये भी पढ़ें - सोशल मीडिया पर फर्जी खबरों के फैलने पर संचालकों पर होगा मुकदमा, 5 सालों की हो सकती है जेल


शोधकर्ताओं ने करीब 5,000 ऐसे ‘‘सीड’’ उपयोक्ताओं से ट्विटर के आंकड़े इकट्ठा किए, जिनसे आईएसआईएस के सदस्य परिचित थे या जो आईएसआईएस के कई ज्ञात सदस्यों से मित्र या फॉलोवर के तौर पर जुड़े थे। उन्होंने खबरों, ब्लॉग, कानून का पालन कराने वाली एजेंसियों की ओर से जारी की गई रिपोर्टों और थिंक टैंक के जरिए उनके नाम हासिल किए।

वैज्ञानिकों ने चरमपंथियों के उन ट्वीट पर ज्यादा ध्यान दिया जिन्हें ट्विटर ने आतंकवादी प्रकृति का करार दिया था। चरमपंथी व्यवहार के आंकड़े और आईएसआईएस के असल यूजर डेटा का इस्तेमाल करते हुए शोधकर्ताओं ने नए चरमपंथी उपयोक्ताओं की पहचान पहले ही कर लेने का तरीका विकसित किया। 

 

Todays Beets: