Sunday, July 5, 2020

Breaking News

   उत्तराखंड: कोरोना के 46 नए मामले, कुल पॉजिटिव केस हुए 1199     ||   माले: ऑपरेशन समुद्र सेतु के तहत आईएनएस जलश्व से मालदीव में फंसे 700 भारतीय लाए जा रहे वापस     ||   बिहार: ADG लॉ एंड ऑर्डर ने जताई आशंका, प्रवासियों के आने से बढ़ सकता है अपराध     ||   दिल्ली: बीजेपी के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने संभाला अपना पदभार     ||   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||

प्रदूषण ने मानव शरीर में पहुंचाए जानलेवा भारी धातु , AIIMS की रिसर्च में कई चौंकाने वाली बातें उजागर 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
प्रदूषण ने मानव शरीर में पहुंचाए जानलेवा भारी धातु , AIIMS की रिसर्च में कई चौंकाने वाली बातें उजागर 

नई दिल्ली । कई बार आपने अपने किसी परिचित के बारे में सुना होगा कि न तो वह शराब-सिगरेट पीता था , न ही कोई दूसरी बुरी लत , लेकिन वह हार्टअटैक या कैंसर - अस्थमा या लीवर संबंधी बीमारी के अचानक सामने आने के कुछ दिनों बाद ही चला बसा । अंतिम अवस्था में बीमारी का पता लगने पर डॉक्टर इस बार को लेकर कोई जवाब नहीं दे पाते कि आखिर इसका कारण क्या रहा , लेकिन अब  AIIMS इन बातों की जड़ में जाने के लिए रिसर्च कर रही है, जिसमें अभी तक की जांच में सामने आया है कि हमारे आस पास का प्रदूषण हमारे शरीर में कई तरह से प्रवेश कर गया है। एम्स ने अपने शोध में पाया कि कई लोगों के शरीर में फ्लोराइड, आरसेनिक और मरकरी जैसे खतरनाक हैवी मेटल्स मौजूद हैं , जिनके चलते कोई भी शख्स लंग कैंसर , अस्थमा , किडनी के फेल होने , हार्ट अटैक आदि जैसी बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। 

असल में AIIMS में खुली इकोटॉक्सिकोल़ॉजी लैब में की गई एक रिसर्च में कुछ बीमारियों की जड़ खोजी गई । इसके लिए करीब 200 लोगों पर एक शोध किया गया । इस जांच में सामने आया कि 200 में से 32 लोगों के शरीर में हानिकारक केमिकल्स मौजूद हैं । ये केमिकल्स मानव शरीर में वातावरण में बढ़ते प्रदूषण के चलते पहुंचे । बढ़ते हर तरह के प्रदूषण के चलते हमारा खाना पीना भी प्रदूषित हो गया है , जिसके चलते हमारे पानी - दूध - फल सब्जियां तक इस प्रदूषण से प्रभावित हो गई हैं। इन्हें ग्रहण करने के साथ ही हमारे शरीर में खतरनाक और जानलेवा केमिकल्स समेत भारी धातु पहुंच रही है । 


एम्स के डॉक्टरों ने इस रिसर्च की बाबत बताया कि आने वाले समय में बढ़ते प्रदूषण के साथ मानव शरीर में इन केमिकल्स की मात्रा भी बढ़ेगी । नई पीढ़ी इस संकट से जूझेगी । जांच में सामने आया कि कुछ नवजातों की गर्भनाल के खून में कीटनाशक भी पहुंच रहे हैं। इससे साफ होता है कि आने वाली पीढ़ी इन खतरनाएक केमिकल्स से होने वाली बीमारियों से जूझेगी । एम्स के डॉक्टरों का कहना है कि फैक्टरियों से निकलने वाले जहरीले पानी में उगने वाली सब्जियां और फल मानव शरीर के लिए बेहद हानिकारक साबित हो रहे हैं। ये फल -सब्जियां आपको दिनों दिन बीमार कर रहे हैं।

बता दें कि एम्स की यह लैब अपनी तरह की खास लैब है । इसमें न केवल मानव शरीर में मौजूद केमिकल्स और हैवी मेटल्स की जांच हो सकेगी , बल्कि यह भी जांच हो पाएगी कि आपके खाने और पीने की चीजों की स्थिति क्या है । 

Todays Beets: