Sunday, October 20, 2019

Breaking News

   दिल्ली में भी भोपाल जैसा हनी ट्रैप , कई रईसजादों को विदेशी लड़कियों की मदद से फंसाया    ||   घाटी में घनघटाने लगीं मोबाइल फोन की घंटियां, इंटरनेट पर अभी भी प्रतिबंध    ||   इकबाल मिर्ची की इमारत में प्रफुल्ल पटेल का भी फ्लैट , ईडी ने भेजा समन    ||   रणवीर सिंह ने ठुकराया संजय लीला भंसाली की फिल्म का ऑफर , आलिया भट्ट हैं फिल्म की हिरोइन    ||   वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति ने भी माना- अर्थव्यवस्था की हालत खराब     ||   दिल्ली में डेंगू ने तोड़ा रिकॉर्ड, इस हफ्ते में 111 नए मामले आए सामने     ||   अगस्ता वेस्टलैंड मनी लॉन्ड्रिंग केस: 25 अक्टूबर तक बढ़ी रतुल पुरी की न्यायिक हिरासत     ||   तमिलनाडु: मसाले की फैक्ट्री में लगी आग, मौके पर दमकल की गाड़ियां मौजूद     ||   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||

प्रदूषण ने मानव शरीर में पहुंचाए जानलेवा भारी धातु , AIIMS की रिसर्च में कई चौंकाने वाली बातें उजागर 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
प्रदूषण ने मानव शरीर में पहुंचाए जानलेवा भारी धातु , AIIMS की रिसर्च में कई चौंकाने वाली बातें उजागर 

नई दिल्ली । कई बार आपने अपने किसी परिचित के बारे में सुना होगा कि न तो वह शराब-सिगरेट पीता था , न ही कोई दूसरी बुरी लत , लेकिन वह हार्टअटैक या कैंसर - अस्थमा या लीवर संबंधी बीमारी के अचानक सामने आने के कुछ दिनों बाद ही चला बसा । अंतिम अवस्था में बीमारी का पता लगने पर डॉक्टर इस बार को लेकर कोई जवाब नहीं दे पाते कि आखिर इसका कारण क्या रहा , लेकिन अब  AIIMS इन बातों की जड़ में जाने के लिए रिसर्च कर रही है, जिसमें अभी तक की जांच में सामने आया है कि हमारे आस पास का प्रदूषण हमारे शरीर में कई तरह से प्रवेश कर गया है। एम्स ने अपने शोध में पाया कि कई लोगों के शरीर में फ्लोराइड, आरसेनिक और मरकरी जैसे खतरनाक हैवी मेटल्स मौजूद हैं , जिनके चलते कोई भी शख्स लंग कैंसर , अस्थमा , किडनी के फेल होने , हार्ट अटैक आदि जैसी बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। 

असल में AIIMS में खुली इकोटॉक्सिकोल़ॉजी लैब में की गई एक रिसर्च में कुछ बीमारियों की जड़ खोजी गई । इसके लिए करीब 200 लोगों पर एक शोध किया गया । इस जांच में सामने आया कि 200 में से 32 लोगों के शरीर में हानिकारक केमिकल्स मौजूद हैं । ये केमिकल्स मानव शरीर में वातावरण में बढ़ते प्रदूषण के चलते पहुंचे । बढ़ते हर तरह के प्रदूषण के चलते हमारा खाना पीना भी प्रदूषित हो गया है , जिसके चलते हमारे पानी - दूध - फल सब्जियां तक इस प्रदूषण से प्रभावित हो गई हैं। इन्हें ग्रहण करने के साथ ही हमारे शरीर में खतरनाक और जानलेवा केमिकल्स समेत भारी धातु पहुंच रही है । 


एम्स के डॉक्टरों ने इस रिसर्च की बाबत बताया कि आने वाले समय में बढ़ते प्रदूषण के साथ मानव शरीर में इन केमिकल्स की मात्रा भी बढ़ेगी । नई पीढ़ी इस संकट से जूझेगी । जांच में सामने आया कि कुछ नवजातों की गर्भनाल के खून में कीटनाशक भी पहुंच रहे हैं। इससे साफ होता है कि आने वाली पीढ़ी इन खतरनाएक केमिकल्स से होने वाली बीमारियों से जूझेगी । एम्स के डॉक्टरों का कहना है कि फैक्टरियों से निकलने वाले जहरीले पानी में उगने वाली सब्जियां और फल मानव शरीर के लिए बेहद हानिकारक साबित हो रहे हैं। ये फल -सब्जियां आपको दिनों दिन बीमार कर रहे हैं।

बता दें कि एम्स की यह लैब अपनी तरह की खास लैब है । इसमें न केवल मानव शरीर में मौजूद केमिकल्स और हैवी मेटल्स की जांच हो सकेगी , बल्कि यह भी जांच हो पाएगी कि आपके खाने और पीने की चीजों की स्थिति क्या है । 

Todays Beets: