Wednesday, October 5, 2022

Breaking News

   MHA ने NIA के 2 नए विंग को दी मंजूरी, 142 जांच अधिकारी-कर्मचारी बढ़ाए     ||   पाकिस्तान को बाढ़ से निपटने के लिए 10 अरब डॉलर की जरूरत, मंत्री का बयान     ||   सुप्रीम कोर्ट ने 1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस से जुड़े सभी मामलो को बंद किया     ||   मनीष के घर-लॉकर से कुछ नहीं मिला, ईमानदार साबित हुए: CM केजरीवाल     ||   दिल्ली: JP नड्डा को बताना चाहता हूं, बच्चा चुराने लगी है BJP- मनीष सिसोदिया     ||   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||   अगले साल अंतरिक्ष जाएंगे भारतीय , एक या दो भारतीयों को भेजने की योजना है     ||

टेलीकॉम इंडस्ट्री में फिर शुरू होने वाला है ''टैरिफ वॉर'' , अडानी की एंट्री से उपभोक्ताओं को फिर मिल सकती है सस्ती सेवाएं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
टेलीकॉम इंडस्ट्री में फिर शुरू होने वाला है

नई दिल्ली । देश में एक बार फिर से टेलीकॉम इंडस्ट्री में बड़ी हलचल की उम्मीद जताई जा रही है । असल में अडानी समूह (Adani Group) अब टेलीकॉम सेक्टर में भी पांव में एंट्री की खबरों ने यह हलचल मचाई है । खबर है कि अडानी समूह ने शुक्रवार को आखिरी दिन 5जी स्पेक्ट्रम ( 5G Spectrum) की नीलामी में हिस्सा लेने के लिए आवेदन किया है । इस सबके बाद इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि अडानी समूह इस इंडस्ट्री में उतरने की तैयारी में हैं । जानकारों का कहना है कि अगर ऐसा हुआ तो एक बार फिर से देश की टेलीकॉम इडस्ट्री में ''टैरिफ वॉर'' की शुरुआत होगी । इसका सीधा लाभ उपभोक्ताओं को मिलेगा । 

बता दें कि अडानी ग्रुप ने 8 जुलाई, 2022 को आने वाले दिनों में 5जी स्पेक्ट्रम की होने वाली नीलामी में भाग लेने के लिए टेलीकॉम विभागके पास आवेदन जमा कराया है । 8 जुलाई स्पेक्ट्रम नीलामी में भाग लेने के लिए आवेदन करने का आखिरी दिन था । 

इस सबके बाद यह संभावना जताई जा रही है कि वर्तमान में तीनों मौजूदा टेलीकॉम कंपनियां रिलायंस जियो ( Reliance Jio), भारतीय एयरटेल ( Bharti Airtel) और वोडाफोन आइडिया ( Vodafone Idea) के अलावा गौतम अडानी ( Gautam Adani) की अडानी ग्रुप भी अब इस 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी प्रक्रिया में हिस्सा लेंगी । 


दूरसंचार विभाग के मुताबिक 5जी स्पेक्ट्रम में भाग लेने वाली किसी भी नई कंपनी को यूनिफाइड लाइसेंस ( Unified License) लेना होगा जिसके जरिए देश के किसी भी भाग में एक्सेस सर्विस( Access Service), मोबाइल ( Mobile) या डाटा सर्विस ( Data Service) प्रदान करना होगा । यूनिफाइड लाइसेंस किसी भारतीय कंपनी को ही दी जाएगी ।  कोई विदेशी कंपनी यूनिफाइड लाइसेंस के लिए आवेदन करती है तो उसे देश में नई कंपनी बनाना होगा या किसी भारतीय कंपनी का अधिग्रहण करना होगा ।  

हालांकि अभी तक स्पेक्ट्रम नीलामी को लेकर अडानी समूह की तरह से कोई बयान जारी नहीं किया गया है , लेकिन उनकी नीलामी प्रक्रिया में हिस्सा लेने के फैसले ने अब इन बातों को हवा दे दी है कि आने वाले दिनों में देश में फिर से टैरिफ वार होगी । अडानी समूह के टेलीकॉम इंडस्ट्री में दाखिल होने के बाद जियो , एयरटेल समेत अन्य समूह अपने ग्राहकों को अपने साथ बांधे रखने के लिए अपनी सुविधाओं को सस्ती दरों पर उपलब्ध करवाएंगे । यह स्थिति ग्राहकों के लिए अच्छी साबित होगी ।

बहरहाल , 12 जुलाई, 2022 को इस बात का खुलासा हो जाएगा कि स्पेक्ट्रम की नीलामी प्रक्रिया में कौन कौन से समूह शामिल होंगे । जबकि 26 जुलाई, 2022 से 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी शुरू होगी और करीब 4.3 लाख करोड़ रुपये के स्पेक्ट्रम निलामी के लिए ब्लॉक पर रखा जाएगा ।

Todays Beets: