Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

मिथुन चक्रवर्ती - जानें नक्सली आंदोलन से भाजपा तक का सियासी सफरनामा , ममता के खिलाफ खोलेंगे मोर्चा 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मिथुन चक्रवर्ती - जानें नक्सली आंदोलन से भाजपा तक का सियासी सफरनामा , ममता के खिलाफ खोलेंगे मोर्चा 

नई दिल्ली । बंगाल विधानसभा चुनावों से पहले भाजपा के साथ अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती जैसे बड़े नाम का जुड़ना पार्टी के लिए काफी लाभदायी साबित होगा । मिथुन बॉलीवुड के ऐसे अभिनेताओं में शामिल हैं जिन्होंने अपने शुरुआती जीवन में नक्सली विचारधारा के साथ खुद को बताया था । , लेकिन अब वह भाजपा के साथ जुड़ गए हैं । एक समय वह नक्सली गतिविधियों के चलते पुलिस से छिपे भी थे और उन्हें पुलिस से बचने के लिए यहां वहां भागना भी पड़ा था । लेकिन अब मिथुन भाजपा का दामन थामकर बंगाल में भाजपा की सरकार बनाने का लक्ष्य लेकर सियासी समर में कूद गए हैं । ममता बनर्जी के खिलाफ कमर कसते हुए आने वाले दिनों में वह नंदीग्राम में 12 मार्च से अपने अभियान शुरू करने जा रहे हैं ।

बता दें कि 16 जुलाई 1950 को जन्मे मिथुन का बचपन अल्ट्रा लेफ्ट विचारधारा के प्रभाव के बीच गुजरा । मिथुन समेत बंगाल के कई युवा इस चरमपंथी विचारधारा के साथ आ गए थे, जिसने एक आंदोलन का रूप ले लिया था , लेकिन अपनी भाई की मौत के बाद उनका इस सब से मन हट गया । इतना ही नहीं नक्सली विचारधारा वालों पर पुलिस की सख्ती के कारण मिथुन को उस दौरान छिपना भी पड़ा । पुलिस ने भी उन्हें भगोड़ा कह दिया था । 

 

मिथुन का कहना है कि 70 के दशक में उनपर नक्सली होने का ठप्पा लग गया था । बावजूद इसके उन्होंने एफटीटीआई पुणे से कोर्स किया और बॉलीवुड में अपनी जगह बनाने के लिए मेहनत करने लगे । हालांकि तब से लेकर अब से थोड़े समय तक भाजपा के कई नेता उन्हें अर्बन नक्सली ही मानते रहे हैं , लेकिन अब उन्होंने भाजपा का दामन थाम बहुत से लोगों को गलत साबित कर दिया है । हालांकि 2014 में वह टीएमसी के टिकट पर ही राज्यसभा जा चुके हैं ।


 

इस बार के बंगाल विधानसभा चुनावों में वह ममता बनर्जी के खिलाफ जमकर प्रचार करने वाले हैं , जिसकी शुरुआत वह 12 मार्च से नंदीग्राम में एक चुनाव प्रचार अभियान से करेंगे। वह भाजपा उम्मीदवार शुभेंदु अधिकारी के लिए इस सीट पर चुनाव प्रचार से अपने इस राजनीतिक जीवन की शुरुआत करेंगे । इसी सीट से ममता भी चुनावों में उतर रही हैं । 

बहरहाल , बंगाल में 8 चरणों में होने वाले इस बार के चुनाव में मिथुन का जादू किस तरह चलेगा यह तो आने वाले समय बताएगा , लेकिन एक एक करके ममता के करीबियों का भाजपा में शामिल होना TMC के लिए कोई अच्छा संकेत नहीं दिख रहा है ।  

Todays Beets: