Friday, May 20, 2022

Breaking News

    रोडरेज मामले में सिद्धू को 1 साल कठोर कारावास की सजा, SC ने 34 साल पुराने केस में सुनाई सज़ा    ||   बिहार विधानसभा में कानून व्यवस्था को लेकर हंगामा, CPI-ML के 12 विधायकों को किया गया बाहर     ||   गौतमबुद्ध नगर के तीनों प्राधिकरणों के 49,500 करोड़ नहीं चुका रहीं रियल एस्टेट कंपनियां     ||   आंध्र प्रदेश: गुड़ी पड़वा के जश्न के दौरान भक्तों के बीच मंदिर में मारपीट, दुकानों में तोड़फोड़-आगजनी     ||   दिल्ली एयरपोर्ट पर रोके जाने के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचीं राणा अयूब     ||   सोनिया गांधी ने बोला केंद्र पर हमला, लगाया MGNREGA का बजट कम करने का आरोप     ||   केजरीवाल के आवास पर हमला: दिल्ली HC पहुंची AAP, एसआईटी गठन की मांग की     ||   राज्यसभा जा सकते हैं शिवपाल यादव! दो दिन से जारी है बीजेपी मुलाकातों का दौर     ||   यूपी हज समिति के अध्यक्ष बने मोहसिन रजा, राज्यमंत्री का भी दर्जा मिला     ||   दिल्ली: नई शराब नीति के विरोध में BJP, पटेल नगर समेत 14 जगहों पर शराब की दुकानें की सील     ||

Ranji trophy 2022: पहली बार कोई मंत्री रणजी टीम का हिस्सा बना , मनोज तिवारी ने रचा इतिहास

अंग्वाल न्यूज डेस्क
Ranji trophy 2022: पहली बार कोई मंत्री रणजी टीम का हिस्सा बना , मनोज तिवारी ने रचा इतिहास

नई दिल्ली । देश के क्रिकेट इतिहास की तरफ नजर डालें तो राजा - रजवाड़ों से शुरू हुआ यह खेल आम आदमियों तक पहुंच गया है । इतिहास में नजर डालें तो देश के कई मंत्रियों से लेकर कई बेहद गरीब घरों के लड़के भी टीम इंडिया का हिस्सा रहे हैं । कई ऐसे खिलाड़ी जो आगे चलकर देश की राजनीति में सक्रिय रूप से नजर आए , लेकिन ऐसा पहली बार हो रहा है कि किसी राज्य का कोई कैबिनेट मंत्री रणजी टीम का हिस्सा बनेगा । यह कोई ओर नहीं बल्कि कोलकाता की ममता बनर्जी सरकार में मंत्री मनोज तिवारी ऐसे पहले खिलाड़ी बन गए हैं , जो मंत्री रहते प्रथम श्रेणी क्रिकेट टूर्नामेंट में उतरे हैं। कटक के बाराबाती स्टेडियम में आज से बड़ौदा के खिलाफ मैच खेलने के लिए उतरने के साथ ही उन्होंने यह कीर्तिमान बनाया है । 36 वर्षीय मनोज तिवारी बंगाल के खेल राज्य मंत्री हैं। उन्होंने पिछले साल ही ममता सरकार में मंत्रिपद संभाला है।

बता दें कि मनोज तिवारी देश के एक जाने पहचाने क्रिकेट खिलाड़ी रह हैं । हालांकि पिछले साल उन्होंने राजनीति में कदम रखा और टीएमसी के टिकट पर कोलकाता विधानसभा चुनावों में उतरे और जीत दर्ज की । पार्टी के सत्ता में आने पर ममता बनर्जी ने उन्हें राज्य का खेल मंत्री मनोनीत किया । 


इतना ही नहीं मनोज तिवारी रणजी क्रिकेट में पहले से ही चिर परिचित नाम हैं। उन्होंने अपने डेढ़ दशक से भी लंबे करियर में रणजी ट्राफी के कई सत्र खेले हैं। मनोज ने अब तक 125 प्रथम श्रेणी मैच खेले हैं, जिनमें 100 रणजी मैच शामिल हैं। प्रथम श्रेणी क्रिकेट में उन्होंने 50.36 के औसत से 8,965 रन बनाए हैं, जिसमें 27 शतक और 37 अर्धशतक शामिल हैं। उनका सर्वाधिक स्कोर नाबाद 303 रन का है। 2020 में रणजी ट्राफी जीतने वाली बंगाल टीम के वह अहम सदस्य थे। अब तक उन्होंने क्रिकेटर के तौर पर ही रणजी मैच खेले हैं, लेकिन इस सत्र में वह मंत्री के तौर पर भी खेलते नजर आए ।

वैसे मनोज रणजी खेलने वाले बंगाल के पहले खेल राज्य मंत्री नहीं हैं। इससे पहले लक्ष्मी रतन शुक्ला भी रणजी खेल चुके हैं, लेकिन शुक्ला ने मंत्री बनने से पहले रणजी ट्राफी खेली थी। राजनीति में आने से पहले ही उन्होंने क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। इससे इतर मनोज ने क्रिकेट व राजनीति, दोनों में अपनी पारी जारी रखने का मन बनाया है। वैसे केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर भी रणजी खेल चुके हैं। उन्होंने 2000-01 सत्र में हिमाचल प्रदेश की तरफ से जम्मू-कश्मीर के खिलाफ रणजी का एक मैच खेला था। उस मैच में उन्होंने कप्तानी भी की थी। अनुराग ठाकुर उस वक्त हिमाचल प्रदेश क्रिकेट संघ के अध्यक्ष थे। रणजी ट्राफी से आइपीएस-आइएएस बनने वाले कई क्रिकेटरों के नाम भी जुड़े हैं, जिनमें अमय खुरसिया व जोगिंदर शर्मा उल्लेखनीय हैं।

Todays Beets: