Friday, September 24, 2021

Breaking News

   तेजस्वी यादव बोले- पेड़, जानवरों की गिनती हो सकती है तो फिर जाति आधारित जनगणना क्यों नहीं     ||   तालिबान की अमेरिका को धमकी, 31 अगस्त के बाद भी रही सेना तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहे    ||   कर्नाटक CM से स्थानीय BJP विधायक की मांग- कोरोना के चलते किसी भी हिंदू पर्व पर ना लगे बंदिशें    ||   तेजप्रताप की नाराजगी के सवाल पर बोले तेजस्वी- राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर ही देंगे जवाब    ||   अंडमान एंड निकोबार के पोर्ट ब्लेयर में महसूस किए गए 4.3 तीव्रता के भूकंप     ||   दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कनॉट प्लेस पर भारत के पहले स्मॉग टावर का उद्घाटन किया     ||   गुजरात में शराबबंदी के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका मंजूर, 12 अक्टूबर को होगी सुनवाई     ||   सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्री ने चेताया, आर्थिक गतिविधियां खुलने के साथ ही बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले     ||   पत्नी शालिनी के आरोपों पर बोले हनी सिंह- सभी आरोप गलत, कोर्ट में चल रहा केस     ||   रांचीः महिला हॉकी में झारखंड से शामिल हर खिलाड़ियों को मिलेंगे 50-50 लाख रुपयेः CM हेमंत सोरेन     ||

अब चेक पेमेंट के लिए लागू हुआ है ये नया नियम , जानें क्या है ये Positive Pay System

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब चेक पेमेंट के लिए लागू हुआ है ये नया नियम , जानें क्या है ये Positive Pay System

नई दिल्ली । देश के कुछ बैंकों में आज से  यानी 1 सितंबर 2021 से चेक के माध्यम से पेमेंट करने या रुपये निकालने को लेकर पॉजिटिव पे सिस्टम (Positive Pay System) लागू होगा।  भारतीय रिजर्व बैंक ये इस नई व्यवस्था को बैंकों में चेक के माध्यम से होने वाली धोखाधड़ी को रोकने के लिए बनाया है । हालांकि अभी उपभोक्ताओं को इस पे सिस्टम के बारे में जानकारी नहीं है ।

 

तो चलिए हम बताते हैं कि आखिर क्या है Positive Pay System और यह कैसे करेगा काम

-असल में 1 सितंबर 2021 से लागू होने वाला यह पॉजिटिव पे सिस्टम 50 हजार रुपये से ज्यादा के चेक पर लागू होगा।

-असल में अबतक क्या होता है कि आप अपने बैंक का चेक , किसी शख्स को देते हैं तो वह शख्स अपने बैंक की शाखा में उस चेक को डालता है।

 

-इसके बाद दूसरे शख्स का बैंक इस चेक को CTS यानी Cheque Truncation System के जरिए मेरे बैंक को दिखाएगा । ऐसे में मेरा बैंक उतनी राशि को दूसरे शख्स के बैंक को दे देगा और वह बैंक उस रकम को आपके खाते में डाल देगा ।

लेकिन इस पूरे मामले में धोखाधड़ी की आशंका बनी रहती है। मसलन मैंने जो चेक दिया वह 1 लाख रुपये का दिया और मैंने जिसे यह चेक दिया उसने फर्जीवाड़ा करके उस चेक को 10 लाख रुपये का बना दिया । अब इस पुरानी व्यवस्था में अगर यह चेक पर फर्जीवाड़ा करने में सफल हो गया तो इस चेक को भुनाने से रोकने का कोई सिस्टम नहीं था।

 


- लेकिन अब इस नए पॉजिटिव पे सिस्टम से इस धोखाधड़ी को रोकना मुमकिन होगा ।

-असल में अब जब कोई भी शख्स किसी दूसरे शख्स को चेक देगा तो इसकी जानकारी वह अपने बैंक को भी देगा।

-चेक देने के साथ ही शख्स को अपने बैंक को भी उस चेक की पूरी डिटेल देनी होगी । जैसे चेक की डेट, बेनेफिशियरी का नाम, अकाउंट नंबर, कुल अमाउंट और अन्य जरूरी ।

अब इस नए सिस्टम में जब वह शख्स जिसे आपने चेक दिया है, अपने बैंक में आपका दिया चेक लगाएगा तो CTS के दौरान आपके द्वारा अपने बैंक को भेजी गई जानकारी से चेक पर अंकित जानकारी का मिलान किया जाएगा। अगर दोनों पर चेक की राशि , जिसे चेक दिया गया उसका नाम , तारीख में कोई भी बदलाव नजर आया तो इस चेक को रोक दिया जाएगा । अगर सब कुछ ठीक रहा , तो ही इस चेक को पास करके आपका बैंक , रकम दूसरे बैंक को जारी करेगा।

 

इस बीच चलिए आपको यह भी बता देते हैं कि आप अपने बैंक को कैसे अपने दिए गए चेक की जानकारी देंगे ।

-असल में इसके लिए आपको मोबाइल बैंकिंग का इस्तेमाल कर सकते हैं ।

-अगर मोबाइल बैंकिंग का इस्तेमाल नहीं करते हैं, तो आप बैंक की वेबसाइट या SMS के जरिए भी अपने बैंक की इसकी जानकारी दे सकते हैं।

बता दें कि RBI ने 1 जनवरी, 2021 से इस सिस्टम को लागू कर दिया था । भारतीय स्टेट बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक इसे पहले ही लागू कर चुके हैं, लेकिन आज से Axis Bank ने इस सिस्टम को अनिवार्य किया है ।

    Todays Beets: