Monday, February 24, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

RBI ने दो दशक पुराने बैंक पर लगाया 6 माह का प्रतिबंध , खाताधारक निकाल सकेंगे महज 35 हजार रुपये

अंग्वाल न्यूज डेस्क
RBI ने दो दशक पुराने बैंक पर लगाया 6 माह का प्रतिबंध , खाताधारक निकाल सकेंगे महज 35 हजार रुपये

नई दिल्ली । देश के बैंकिंग सिस्टम में सुधार के लिए पिछले कुछ समय से रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया यानी RBI ने कई कड़े कदम उठाए हैं । गत वर्ष वित्तीय लेन-देन में खामियां पाए जाने के बाद आरबीआई ने पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक (पीएमसी) पर 6 महीने की पाबंदी लगाई थी । इस सब के बाद अब आरबीआई ने दो दशक पुराने एक बैंक पर भी कुछ ऐसी ही पाबंदी लगा दी है । यह बैंक कोई और नहीं बल्कि बेंगलुरु स्थित श्री गुरु राघवेंद्र सहकारी बैंक है, जिस पर केंद्रीय बैंक ने  तत्काल प्रभाव से बैन लगा दिया । अगले 6 माह तक यह बैंक बिना आरबीआई की अनुमति के किसी को कोई लोन नहीं दे सकेगा । इतना ही नहीं इस दौरान बैंक के खाता धारक भी महज 35 हजार रुपये की निकासी कर सकेंगे ।  

बता दें कि आरबीआई ने वित्तीय लेनदेन में कथित अनियमितताओं को लेकर बेंगलुरु स्थित श्री गुरु राघवेंद्र सहकारी बैंक पर तत्काल प्रभाव से बैन लगा दिया है । यह बैंक  कर्नाटक में अग्रणी सहकारी बैंक की श्रेणी में आता है । इस बैंक की स्‍थापना 1999 में हुई थी , जिसकी कर्नाटक में 6 शाखाएं हैं । बैंक ने अपनी वेबसाइट पर अपनी कुल नेटवर्थ 100 करोड़ से अधिक बताई है । पिछले कुछ समय से बैंक की वित्तीय अनियमितताओं पर आरबीआई की नजर थी और आखिरकार केंद्रीय बैंक ने इस सहकारी बैंक पर प्रतिबंध लगा दिया है । आरबीआई ने यह एक्शन बैंकिंग रेगुलेशन एक्ट 1949 की धारा 35 के तहत लिया है । इस धारा के तहत आरबीआई को यह अधिकार है कि वह किसी भी बैंक के खिलाफ अनियमितता की शिकायत पर ऐसी कार्रवाई कर सकता है ।


प्रतिबंध के बाद अब श्री गुरु राघवेंद्र सहकारी बैंक के ग्राहक खाते से सिर्फ 35 हजार रुपये निकाल सकेंगे । यह बैंक अगले छह महीने तक रिजर्व बैंक की अनुमति के बिना न तो कोई नया लोन दे सकता है । इतना ही नहीं बैंक में नए निवेशों की इजाजत पर 6 महीने तक के लिए रोक लगा दी गई है । 

बहरहाल , एक बार फिर से बैंक खाताधारकों को पीएमसी बैंक के खाताधारकों की तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ेगा । बैंक में कई लोगों के लाखों रुपये जमा है और एक बार फिर से बैंक खाताधारकों को अपने रुपयों को लेकर सड़कों पर प्रदर्शन करते देखा जाएगा । 

Todays Beets: