Wednesday, October 16, 2019

Breaking News

   दिल्ली में भी भोपाल जैसा हनी ट्रैप , कई रईसजादों को विदेशी लड़कियों की मदद से फंसाया    ||   घाटी में घनघटाने लगीं मोबाइल फोन की घंटियां, इंटरनेट पर अभी भी प्रतिबंध    ||   इकबाल मिर्ची की इमारत में प्रफुल्ल पटेल का भी फ्लैट , ईडी ने भेजा समन    ||   रणवीर सिंह ने ठुकराया संजय लीला भंसाली की फिल्म का ऑफर , आलिया भट्ट हैं फिल्म की हिरोइन    ||   वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति ने भी माना- अर्थव्यवस्था की हालत खराब     ||   दिल्ली में डेंगू ने तोड़ा रिकॉर्ड, इस हफ्ते में 111 नए मामले आए सामने     ||   अगस्ता वेस्टलैंड मनी लॉन्ड्रिंग केस: 25 अक्टूबर तक बढ़ी रतुल पुरी की न्यायिक हिरासत     ||   तमिलनाडु: मसाले की फैक्ट्री में लगी आग, मौके पर दमकल की गाड़ियां मौजूद     ||   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||

सावधान! आपके बच्चों के दिल-दिमाग पर हो रहा है तंबाकू उत्पाद का 'कब्जा' , स्कूलों के बाहर फ्री और डिस्काउंट में मिल रहे उत्पाद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सावधान! आपके बच्चों के दिल-दिमाग पर हो रहा है तंबाकू उत्पाद का

नई दिल्ली । अगर आप ये सोचते हैं कि आपके घर में कोई तंबाकू उत्पाद का इस्तेमाल नहीं करता है,  तो आपके बच्चे इन उत्पादों की जद से दूर रहेंगे, तो यह आपका भ्रम है। असल में देशभर में कानून को धता बताते हुए स्कूलों के 100 मीटर के दायरे में तंबाकू उत्पादों को न बेचने का जो नियम बना है, उसे कोई मानने को राजी नहीं है। सरकारी और निजी स्कूलों के 100 मीटर के दायरे में भी देश के कई हिस्सों में तंबाकू उत्पाद आसानी से मिल रहे हैं। इतना ही नहीं स्कूल के 100 मीटर के दायरे में इन उत्पादों के विज्ञापन आपके 8 साल के बच्चे के दिलों दिमाग पर अपनी छाप छोड़ रहे हैं। हालांकि इससे पहले एक अन्य अध्ययन में सामने आया था कि स्कूली बच्चों को तंबाकू बेचने वाले प्रमोशन के तौर पर तंबाकू उत्पादों को डिस्काउंट रेट पर और मुफ्त में भी ऑफर कर रहे हैं। 

भाजपा ने प्रियंका को घेरने के लिए बनाया नया चक्रव्यूह , अमित शाह ने रची नई रणनीति 

असल में गैर सरकारी संगठन कंज्यूमर वॉइस और वॉलेंट्री हेल्थ एसोसिएशन ने देश के 6 राज्यों के 20 शहरों में एक सर्वे और सर्वेक्षण करने के बाद यह निष्कर्ष निकाला है कि देश में तंबाबू उत्पाद को लेकर बनाए गए नियमों की अनदेखी हो रही है। इन संगठनों ने अपने सर्वेक्षण के लिए 20 शहरों के 243 स्कूलों और उनके 100 मीटर के दायरे में मौजूद 487 वेंडरों के ठिकानों की पड़ताल की। 


इस दौरान सामने आया कि करीब 56 फीसदी स्कूलों के निकट तंबाकू उत्पाद यानी सिगरेट , बीडी, गुटखा इन छात्रों के लिए भी आसानी से उपलब्ध था। इन एनजीओ ने अपनी जांच में पाया कि अधिकांश पान-बीड़ी की दुकानों पर 52 फीसदी तंबाकू उत्पाद अमेरिका के थे। वहीं 25 फीसदी के करीब उत्पाद आईटीसी ब्रांड के थे। इतना ही नहीं बड़ी संख्या में इन लोगों ने अपनी दुकान पर तंबाकू उत्पाद के विज्ञापन भी लगाए हुए थे।

मुख्य चुनाव आयुक्त ने विपक्षी दलों को दिया 'जोर का झटका', कहा- हम फिर से पुराने युग में नहीं लौट सकते, चुनाव सिर्फ EVM से

ये हाल तब हैं जब सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम 2003 की धारा 6 के अनुसार शिक्षण संस्थानों के 100 गज के दायरे के भीतर सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पादों की बिक्री गैरकानूनी है। 

Todays Beets: