Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

तीन दिग्गज बीयर कंपनियों ने ''रेट फिक्सिंग'' करके लोगों को 11 साल तक परोसी महंगी बीयर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
तीन दिग्गज बीयर कंपनियों ने

नई दिल्ली । देसी-विदेशी तीन बीयर कंपनियों ने आपसी साठगांठ करके देश में लोगों को पिछले 11 सालों से महंगी बीयर बेची । खुलासा हुआ है कि Carlsberg, SAB Miller और भारतीय कंपनी United Breweries के बीच पिछले एक दशक से ज्यादा समय तक गठजोड़ करके बीयर की कीमतों के मामले में मनमाने फैसले लिए । यह साठगांठ ऐसे समय में की गई जब भारत के करीब 52 हजार करोड़ रुपये के बीयर बाजार में इनकी हिस्सेदारी 88 फीसदी है । अब इन तीनों कंपनियों के गठजोड़ का खुलासा भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग  (CCI ) की एक रिपोर्ट से हुआ है , जिसे देखने का दावा न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने किया है ।

सीसीआई की रिपोर्ट के आधार पर खुलासा हुआ है कि इन कंपनियों के आला अधिकारियों ने कारोबार के लिहाज से कई संवेदनशील सूचनाओं को आपस में साझा किया और भारत में पिछले 11 सालों से बीयर की कीमतों को फिक्स किया । न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने इस रिपोर्ट को लेकर दावा किया है कि उन्होंने सीसीआई की इस रिपोर्ट को देखा है । हालांकि इस पर अभी तक सीसीआई का कोई बयान नहीं आया है । 

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक , साल 2007 से 2018 के बीच देसी विदेशी बीयर बनाने वाली कुछ कंपनियों ने आपकी साठगांठ की । सीसीआई की 248 पेज की रिपोर्ट में कहा गया है, ‘ब्रूअर्स ने मिलजुल कर सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया और उन्हें यह बात अच्छी तरह से पता थी कि उनके इस सामूहिक प्रयास से प्रतिस्पर्धा कानून का उल्लंघन होता है ।'


मिली जानकारी के मुताबिक , इन तीनों कंपनियों ने आपसी गठजोड़ करके देश के कई राज्यों में बीयर की कीमतें बढ़ाने के लिए साजिश रची। इसके बाद इन कंपनियों ने All India Brewers Association  (AIBA) को कॉमन प्लेटफॉर्म की तरह इस्तेमाल किया और आपसी गठजोड़ से कीमतें तय की । AIBA ने भी इनकी मदद की।

रिपोर्ट में कहा गया है कि बीयर बनाने वाली कंपनियों की इस साठगांठ की सूचना मिलने पर सीसीआई ने 2018 में इन तीन बीयर कंपनियों के ठिकानों पर छापा मारा था और जांच शुरू की थी । इस जांच में इन कंपनियों पर अंगुली उठाई गई है । अब इन कंपनियों पर भारी जुर्माना लगाने के बारे में सीसीआई के आला अधिकारी फैसला लेंगे ।

Todays Beets: