Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

लोकसभा चुनाव 2019ः बिहार में कौन सी सीट किसे मिलेगी, अब एनडीए के सामने नई चुनौती

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लोकसभा चुनाव 2019ः बिहार में कौन सी सीट किसे मिलेगी, अब एनडीए के सामने नई चुनौती

नई दिल्ली। आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बिहार में एनडीए और जनता दल युनाटेड के बीच सीटों का बंटवारा लगभग तय माना जा रहा है। अब नई चुनौती यह सामने आ रही है कि कौन सी सीट पर कौन लड़ेगा। राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के गठबंधन से अलग होने के बाद उनकी 2 सीटें भी रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी को मिलने वाली है। बता दें कि पिछले दिनों हुई बातचीत के आधार पर भाजपा और जदयू दोनों ही बराबर सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला लिया है। अब उपेन्द्र कुशवाहा के अलग होने के बाद रामविलास पासवान की पार्टी को 4 सीट मिलने की संभावना बढ़ गई है।

गौरतलब है कि बिहार में सीटों के बंटवारे पर सहमति नहीं बनने की वजह से गठबंधन की सहयोगी, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के मुखिया उपेन्द्र कुशवाहा ने गठबंधन का साथ छोड़ दिया है। बता दें कि गठबंधन से अलग होने के बाद कुशवाहा ने भाजपा अध्यक्ष और पीएम पर काफी हमले किए। कुशवाहा ने गठबंधन से अलग होने से पहले भाजपाध्यक्ष और प्रधानमंत्री से मिलने का वक्त मांगा था लेकिन समय नहीं मिलने पर उन्होंने भाजपा पर तंज करते हुए कहा कि ‘‘जब नाश मनुज पर छाता है पहले विवेक मर जाता है’’। 

ये भी पढ़ें - मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालते ही कमलनाथ ने बिहार और यूपी पर साधा निशाना, कहा- इनकी वजह से मध्...


आपको बता दें कि अब रालोसपा के अलग होने का फायदा लोक जनशक्ति पार्टी को मिल सकता है। गौर करने वाली बात है कि पिछले दिनों भाजपा अध्यक्ष और नीतीश कुमार की मुलाकात के बाद इस बात का निर्णय लिया था कि वे दोनों ही बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेंगे। अब बड़ी चुनौती यह है कि कौन-कौन सी सीटों पर चुनाव लड़ेगा। 

  

Todays Beets: