Tuesday, January 28, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

IT रिटर्न को लेकर सोशल मीडिया में फैली रिपोर्टों पर CBDT की सफाई, कहा- नही किया फॉर्म में कोई बदलाव

अंग्वाल न्यूज डेस्क
IT रिटर्न को लेकर सोशल मीडिया में फैली रिपोर्टों पर CBDT की सफाई, कहा- नही किया फॉर्म में कोई बदलाव

नई दिल्ली । केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने पिछले दिनों आयकर रिटर्न को लेकर सोशल मीडिया में जारी गलत रिपोर्ट को खारिज किया है। बोर्ड ने बताया कि 1 अप्रैल, 2019 को अधिसूचना जारी करने अर्थात कर आकलन वर्ष 2019-20 के प्रथम दिन से लेकर अब तक आईटीआर-2 और आईटीआर-3 सहित किसी भी आयकर रिटर्न (आईटीआर) फॉर्म में कोई भी परिवर्तन नहीं किया गया है। सोशल मीडिया में इस आशय की रिपोर्ट आई थीं कि 11 जुलाई, 2019 को आईटीआर फॉर्म में व्यापक बदलाव किए जाने के कारण आईटीआर-2 और आईटीआर-3 में आयकर रिटर्न भरने में करदाताओं को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

बसपा सुप्रीमो मायावती के भाई आनंद कुमार पर IT विभाग का सुपर एक्शन, 400 करोड़ का बेनामी प्लॉट किया जब्त

बोर्ड की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि सभी ITR फॉर्म की ई-फाइलिंग के लिए संबंधित सॉफ्टवेयर यूटिलिटी को काफी पहले ही जारी कर दिया गया है। ITR-2 और आईटीआर-3 की ई-फाइलिंग के लिए संबंधित यूटिलिटी को क्रमशः 02 मई और 10 मई, 2019 को जारी किया गया था। हालांकि, सॉफ्टवेयर यूटिलिटी को अद्यतन करना एक गतिशील प्रक्रिया है।  उपयोगकर्ताओं (यूजर)/ रिटर्न दाखिल करने वालों की ओर से प्राप्त जानकारियों के अनुसार इसका निरंतर अद्यतन किया जाता है।


बोर्ड ने साफ किया कि यूटिलिटी को अद्यतन करने से रिटर्न दाखिल करने में कोई परेशानी नहीं होती है, क्योंकि करदाताओं को उस समय उपलब्ध यूटिलिटी का उपयोग करते हुए रिटर्न दाखिल करने की अनुमति दी जाती है। उदाहरण के लिए, संबंधित यूटिलिटी का उपयोग कर अब तक 85 लाख से भी अधिक करदाताओं ने रिटर्न दाखिल किए हैं, जबकि इस यूटिलिटी को भी बाद में अपडेट या अद्यतन किया गया है। अतः यह धारणा गलत है कि आईटीआर फॉर्म में परिवर्तन किए जाने के कारण करदाता रिटर्न दाखिल करने में समर्थ नहीं हो पा रहे हैं। दरअसल उस समय तक जारी यूटिलिटी का उपयोग कर 1.38 करोड़ से भी अधिक करदाता अपने रिटर्न बाकायदा दाखिल कर चुके हैं। भले ही करदाताओं की सहूलियत के लिए यूटिलिटी को नियमित रूप से अपडेट किया जाता रहा है, लेकिन यूटिलिटी के पिछले वर्जन का उपयोग कर दाखिल किए गए रिटर्न आगे भी वैध माने जाएंगे।

कर्नाटक विधानसभा LIVE - सदन में फ्लोर टेस्ट की तैयारियां, संकट के दौरान कांग्रेसी विधायक मुंबई के अस्पताल में इलाज करवाते मिले

उल्लेखनीय है कि आवश्यक जानकारियां (फीडबैक) मिलने पर ही आईटीआर फॉर्म की यूटिलिटी को अपडेट किया जाता है और इसका मुख्य उद्देश्य ई-फाइलिंग को आसान करते हुए करदाताओं पर अनुपालन बोझ को कम करना होता है। उल्लेखनीय है कि इस वर्ष पहले से ही भरे हुए रिटर्न फॉर्म उपलब्ध कराने की सुविधा दी गई है, जो टीडीएस स्टेटमेंट में उपलब्ध कराई गई सूचनाओं पर आधारित हैं। बाद में संबंधित यूटिलिटी में इस सुविधा को अपडेट कर दिया गया है। इससे रिटर्न फॉर्म भरने में करदाताओं को निश्चित तौर पर काफी सहूलियत होगी।

Todays Beets: