Sunday, February 5, 2023

Breaking News

   Supreme Court: कलेजियम की सिफारिशों को रोके रखना लोकतंत्र के लिए घातक: जस्टिस नरीमन     ||   Ghaziabad: NGT के फैसले पर नगर निगम को SC की फटकार, 1 करोड़ जमा कराने की शर्त पर वूसली कार्रवाई से राहत     ||   दिल्लीः फ्लाइट में स्पाइसजेट की क्रू के साथ अभद्रता के मामले में एक्शन, आरोपी गिरफ्तार     ||   मोरबी ब्रिज हादसा: ओरेवा ग्रुप के मालिक जयसुख पटेल के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी     ||   भारत जोड़ो यात्राः राहुल गांधी बोले- हम चाहते हैं कि बहाल हो जम्मू कश्मीर का राज्य का दर्जा     ||   MP में नहीं माने बजरंग दल और हिंदू जागरण मंच, 'पठान' की रिलीज के विरोध का किया ऐलान     ||   समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद मौर्या पर लखनऊ में FIR     ||   बजरंग पुनिया बोले - Oversight Committee बनाने से पहले हम से कोई परामर्श नहीं किया गया     ||   यमुना एक्सप्रेस-वे पर कोहरे की वजह से 15 दिसंबर से स्पीड लिमिट कम कर दी जाएगी     ||   भारत की यात्रा करने वाले ब्रिटेन के नागरिकों के लिए ई-वीजा सुविधा फिर से शुरू     ||

चीन से हैक हुआ AIIMS का सर्वर ,  डाटा Dark web पर बिका , मेडिकल सेवाएं ठप करने की थी साजिश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चीन से हैक हुआ AIIMS का सर्वर ,  डाटा Dark web पर बिका , मेडिकल सेवाएं ठप करने की थी साजिश

नई दिल्ली । देश के प्रतिष्ठित अस्पताल एम्स (AIIMS) का सर्वर हैक होने के मामले में एक बड़ा खुलासा हुआ है । जांच के बाद सामने आया है कि इस साइबर अटैक के पीछे कोई ओर नहीं बल्कि हमारा पड़ोसी देश चीन ही है । चीन से ही एम्स का सर्वर हैक हुआ था । हैकर्स ने एम्स के सर्वर का डाटा डार्क वेब (Dark web) पर बेचा । कहा जा रहा है कि भारत के सबसे बड़े हॉस्पिटल AIIMS पर हुए एक बड़े साइबर अटैक भारत की मेडिकल सेवाओं को ठप करने के मकसद से किया गया था ।  

विदित हो कि पिछले दिनों एम्स के सर्वर पर साइबर अटैक हुआ था , जिसके बाद वहा का कामकाज बुरी तरह से प्रभावित हो गया था । इस आफत के चलते ओपीडी समेत कई सेवाएं ठप हो गई थीं । इस साइबर हैकिंग की जांच दिल्ली पुलिस कर रही है , लेकिन देश की सुरक्षा एजेंसियां भी इस घटनाक्रम के बाद से हरकत में आ गई हैं । 


असल में एम्स का सर्वर ठप हो जाने से जहां सभी टेस्ट की रिपोर्ट साइट पर अपलोड नहीं हो पाईं , वहीं व्यवस्था बिगड़ने से कई जरूरी ऑपरेशन भी रुक गए । कई मरीजों को समय पर अपनी जांच रिपोर्ट नहीं मिली तो कई अपनी जांच रिपोर्ट न मिलने के चलते अपना इलाज आगे नहीं बढ़ा पाए ।

गौरतलब है कि एम्स ने अपने सर्वर पर बड़े पैमाने पर साइबर हमले की सूचना दी थी । इसके चलते सभी रोगी देखभाल सेवाएं - अपॉइंटमेंट, पंजीकरण, प्रवेश, डिस्चार्ज, बिलिंग और रिपोर्ट जनरेशन गंभीर रूप से प्रभावित हुई ।एम्स के बाद हैकरों ने गुरुवार को जल शक्ति मंत्रालय के ट्विटर हैंडल को हैक कर लिया । पिछले सप्ताह एम्स दिल्ली का सर्वर हैक होने के बाद किसी सरकारी साइट पर यह दूसरा बड़ा साइबर हमला है । 

Todays Beets: