Saturday, December 14, 2019

Breaking News

   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||   दिल्ली: राजनाथ सिंह के सामने आया शख्स, पीएम मोदी से मिलाने की मांग की     ||   उत्तराखंड के बद्रीनाथ में भारी हिमपात , तापमान माइनस पर पहुंचा    ||   नेपालः कास्की में कम्युनिस्ट पार्टी के बैठक स्थल के पास पार्किंग में धमाका     ||   राम मंदिर मामले में रिव्यू याचिका दायर करेगा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड     ||   दिल्ली हाईकोर्ट ने मालविंदर सिंह और सुनील गोड़वानी को एक दिन की ED हिरासत में भेजा     ||   बीजेपी ने पार्टी महासचिव अरुण सिंह को यूपी से राज्यसभा उम्मीदवार बनाया     ||   पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम की न्यायिक हिरासत 11 दिसंबर तक बढ़ाई गई     ||   INX मीडिया केस: पी चिदंबरम को झटका, दिल्ली हाईकोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका     ||   वकील VS पुलिस मामला: HC ने कहा- जांच पूरी होने तक पुलिस पक्ष से नहीं होगी गिरफ्तारी     ||

अमेरिका-रूस ने पुलवामा हमले पर जताई कड़ी आपत्ति, पर 'दोगला' चीन चुप , हमले के साजिशकर्ता मसूद अजहर को बचाता रहा है ड्रैगन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अमेरिका-रूस ने पुलवामा हमले पर जताई कड़ी आपत्ति, पर

नई दिल्ली । भारत के इतिहास में सबसे बड़े पुलवामा आतंकी हमले के बाद लगभग पूरी दुनिया ने इस आतंकी हमले की निंदा की है। अमेरिका-रूस जैसे देशों ने भी इस हमले के लिए जहां पाकिस्तान को आड़े हाथों लिया है, वहीं इस सब के बीच भारत के लिए चिंता का सबब  पड़ोसी देश चीन का चुप रहना है। चीन ने भारत में हुए इस आतंकी हमले को लेकर अब तक कोई प्रतिक्रिया जाहिर नहीं की है। असल में चीन ही वो देश है जो मुंबई धमाकों के साथ ही अब पुलवामा हमले के साजिशकर्ता आतंकी अजहर मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित किए जाने की राह में अड़ंगे लगाता रहा है। गत सितंबर में चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने यह कहते हुए भारत के दावों को नकार दिया है कि सुरक्षा परिषद के सदस्‍यों में बिना आम सहमति के ही भारत ऐसा करने की कोशिश कर रहा है।

बता दें कि देश में उरी के बाद जैश ए मोहम्मद ने पुलवामा आतंकी हमले की भी जिम्मेदारी ली है, लेकिन चीन जैश के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित किए जाने की राह में रोड़े अड़ाने से बाज नहीं आता है। पिछले दिनों चीन ने इस मुद्दे पर पाकिस्‍तान का साथ देते हुए कहा था कि भारत को अपने पड़ोसी मुल्क से बात करनी चाहिए। जबकि मसूद अजहर को लेकर चीन ने कहा था कि उसके खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं है। 


असल में चीन पाकिस्तान का मददगार बनते हुए कई बार मसूद अजहर को बचाने के लिए वीटो पावर का इस्तेमाल कर चुका है । संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद में वीटो पावर वाला देश चीन लगातार भारत की कोशिशों में अड़ंगा लगा कर मसूद अजहर को बचा रहा है। मसूद अजहर द्वारा बनाए गए जैश-ए-मोहम्‍मद को पहले आतंकी संगठनों की सूची में डाला जा चुका है। चीन के विदेश मंत्री ने कहा कि अगर सभी देश एक साथ राय बनाते हैं तो हम इस मुद्दे पर मदद करेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। उन्‍होंने कहा कि जिन दो देशों से सीधा जुड़ा मुद्दा है पहले उन्‍हें इस विमर्श पर एक साथ आना चाहिए। वांग यी ने ये बातें अमेरिका के थिंक टैंक द्वारा आयोजित विदेश संबंधों के सवाल-जबाव के दौरान कहीं थी। 

Todays Beets: