Friday, June 18, 2021

Breaking News

   राम मंदिर ट्रस्ट में भी उठे जमीन खरीद पर सवाल, सीएम योगी ने मांगी रिपोर्ट     ||   यूपीः बसपा से बागी हुए 9 विधायक आज अखिलेश यादव से करेंगे मुलाकात     ||   वैक्सीन विवाद पर अखिलेश यादव बोले, पहले यूपी की सारी जनता को लग जाए, फिर मैं लगवा लूंगा     ||   कांग्रेस ने चिराग को दिया न्योता, एमएलसी प्रेम चंद बोले- उनके आने से बिहार में विपक्ष मजबूत होगा     ||   बिहार में कल से एक हफ्ते तक लॉकडाउन में ढील, लेकिन नाइट कर्फ्यू लागू रहेगा     ||   पाकिस्तान: आपस में दो ट्रेन टकराईं, 30 की मौत, ट्रेन में अभी भी फंसे हुए हैं बहुत से यात्री     ||   उत्तराखंड: सुनगर के पास हुआ भारी भूस्खलन, गंगोत्री हाइवे हुआ बंद, खुलने में लगेगा वक्त     ||   विवादों में आई 'Family Man 2', बैन लगाने के लिए तमिल नेताओं ने Amazon को लिखा पत्र     ||   केरलः पीटी उषा की सीएम विजयन से अपील- सभी खिलाड़ियों, उनके कोच और स्टाफ को वैक्सीनेट किया जाए     ||   इंडियन मेडिकल एसोसिएशन का दावा, कोरोना की दूसरी लहर में 269 डॉक्टरों ने जान गंवाई     ||

अब ''कॉकडेट ड्रग्स '' बना कोरोना के खिलाफ नया हथियार , 70 फीसदी मरीजों में असरदार का दावा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब

नई दिल्ली । पिछले डेढ़ साल के कोरोना काल में इस महामारी से लड़ने के लिए कई तरह की दवाएं सामने आई हैं । कोरोना की दूसरी लहर को भी अब ढलान पर कहा जा रहा है । इस सबके बीच कोरोना से लड़ने के लिए एक नए ''हथियार'' को तैयार बताया जा रहा है । असल में अब कोरोना से लड़ने के लिए मोनोक्लोनल एंटीबॉडी  यानी कॉकटेल ड्रग्स का इस्तेमाल भारत में भी शुरू कर दिया गया है । कहा जा रहा है कि यह कोरोना के 70 फीसदी मरीजों में असरदार है । इसकी मदद से कोरोना से संक्रमित लोगों की स्थिति पर काबू पा जा सकता है , जिससे उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं पड़ेगी । ऐसा कहा जा रहा है कि अमेरिकी के पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप को भी कोरोना होने पर यही दवा दी गई थी ।

सामने आया है कि इस कोरोना के मरीजों को संक्रमित होने के 72 घंटे के भीतर दिया जाता है। हालांकि अभी इसका इस्तेमाल देश के चुनिंदा शहरों में हो रहा है । लेकिन जैसे जैसे इसकी मांग बढ़ेगी , यह अन्य शहरों में भी नजर आएगी । 

बता दें कि स्विट्जरलैंड की दवा कंपनी रोशे और सिप्ला ने इस दवा को भारत में लॉच किया था । मोनोक्लोनल एंटीबॉडी कॉकलेट को लेकर दावा किया जा रहा है कि यह मरीज की कोरोना से लड़ने की शक्ति को बढ़ाता है । सामने आई मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक , इस दवा में कासिरिविमाब (Casirivimab) और इम्देबीमाब (Imdevimab) जैसे दो सॉल्ट को मिलाकर बनाया जाता है । 


दावा किया जा रहा है कि इस दवा से कोरोना के मरीजों को इस वायरस से लड़ने में मदद मिलती है । ये दवा , मानव शरीर के अंदर वायरस को कोशिकाओं में जाने से रोकती है । इसके चलते वायरस को न्यूट्रिशन नहीं मिलता और वायरस बढ़ नहीं पाता है । 

Todays Beets: