Friday, September 24, 2021

Breaking News

   तेजस्वी यादव बोले- पेड़, जानवरों की गिनती हो सकती है तो फिर जाति आधारित जनगणना क्यों नहीं     ||   तालिबान की अमेरिका को धमकी, 31 अगस्त के बाद भी रही सेना तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहे    ||   कर्नाटक CM से स्थानीय BJP विधायक की मांग- कोरोना के चलते किसी भी हिंदू पर्व पर ना लगे बंदिशें    ||   तेजप्रताप की नाराजगी के सवाल पर बोले तेजस्वी- राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर ही देंगे जवाब    ||   अंडमान एंड निकोबार के पोर्ट ब्लेयर में महसूस किए गए 4.3 तीव्रता के भूकंप     ||   दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कनॉट प्लेस पर भारत के पहले स्मॉग टावर का उद्घाटन किया     ||   गुजरात में शराबबंदी के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका मंजूर, 12 अक्टूबर को होगी सुनवाई     ||   सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्री ने चेताया, आर्थिक गतिविधियां खुलने के साथ ही बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले     ||   पत्नी शालिनी के आरोपों पर बोले हनी सिंह- सभी आरोप गलत, कोर्ट में चल रहा केस     ||   रांचीः महिला हॉकी में झारखंड से शामिल हर खिलाड़ियों को मिलेंगे 50-50 लाख रुपयेः CM हेमंत सोरेन     ||

ताबिलान को ललकारने वाली महिला गवर्नर सलीमा मजारी बनाई गई बंधक , बंदूक उठाकर किया था सामना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
ताबिलान को ललकारने वाली महिला गवर्नर सलीमा मजारी बनाई गई बंधक , बंदूक उठाकर किया था सामना

नई दिल्ली । अफगानिस्तान में ताबिलान का कब्जा होने के साथ ही वहां एक बार फिर से महिलाओं को यातनाएं देने का दौर शुरू हो गया है । ताजा खबर यह है कि पिछले दिनों तालिबानियों को ललकारने वाली बल्ख प्रांत की एक महिला गवर्नर सलीमा मजारी (Salima Mazari) को लड़ाकों ने बंधक बना लिया है । हालांकि अपने एक बयान में तालिबान ने साफ कहा था कि पुरानी सरकार के लिए काम करने वालों को माफ कर देगा और महिलाओं को उनके अधिकार देगा । बावजूद इसके तालिबान ने विपक्षी नेताओं और महिलाओं के खिलाफ क्रूरता का क्रम शुरू कर दिया है । 

मिली जानकारी के अनुसार , बल्ख प्रांत की महिला गवर्नर सलीमा मजारी को इसलिए बंधक बनाया गया है क्योंकि उन्होंने ताबिलान के खिलाफ आवाज उठाई थी । इतना ही नहीं उन्होंने तो खुद तालिबान के खिलाफ बंदूक उठा दी थी । पूर्व में उनकी इसी हरकत के चलते उन्हें अब बंधक बना लिया गया है । हालांकि अभी इससे संबंधित कोई जानकारी नहीं मिली है कि उन्हें कहां रखा गया है और उनके साथ कैसा व्यवहार किया गया है । 

विदित हो कि सलीमा मजारी अफगानिस्तान में पहली महिला गवर्नरों में से एक रही हैं । कुछ साल पहले ही बल्ख के चाहत किंत जिले का गवर्नर चुना गया था । पिछले महीने ही जब तालिबान (Taliban) ने एक के बाद एक सभी प्रांतों पर धावा बोलना शुरू किया, तो सलीमा ने भागने के बजाय मुकाबला करने का फैसला किया और और पकड़े जाने से पहले तक बंदूक उठाकर अपने लोगों की रक्षा की । हालांकि, उनके जिले के तालिबान द्वारा घेरे जाने के बाद आखिरकार सरेंडर करना पड़ा था। 

 

चलिए अब आपको बता देते हैं कि कौन हैं ये सलीमा माजरी । असल में वह अफगानिस्तान मूल की रहने वाली हैं और उनका जन्म साल 1980 में एक रिफ्यूजी के तौर पर ईरान में हुआ था , जब उनका परिवार सोवियत युद्ध से भाग गया था । सलीमा ने तेहरान यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की।  उन्होंने कई यूनिवर्सिटीज और अंतरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन में विभिन्न भूमिकाएं निभाई थीं । इस सबके बाद वह अपने माता पिता को छोड़कर अफगानिस्तान आ गईं। 

वर्ष 2018 में उन्हें पता चला कि चारकिंत जिला के गवर्नर पद की वैकेंसी है और यह उनकी पुश्तैनी मातृभूमि थी, इसिलए उन्होंने इस पद के लिए आवेदन भर दिया । इतना ही नहीं वह इस पद के लिए चुनी भी गईं और उन्होंने वहां बतौर गवर्नर नियुक्त होते हुए काफी अच्छे काम भी किए । 

 

Afghan political leaders    Salima mazari    first female district Governors in Afghanistan    Taliban    kill list    taliban Afghanistan situation     american government    joe biden government policy    IPL 2021    Afghanistan    Taliban    Kabul    Rashid Khan    Afghanistan Cricket Team    Indian Premier League    ACB    Mohammad Nabi    T20 World Cup    Afghanistan Crisis    Afghanistan News    Mullah Baradar    Afghanistan Cricket Board Statement    Afghanistan Taliban Crisis Kabul insurgents    Taliban in Kabu    Taliban Crisis    Kabul News    afghanistan      taliban ladake    kabul    kabul airport    indian government    air india flight    indian government on alert    afganistan president asraf gani    afgani    war in afganistamn    news in hindi    hindi khaber    international news    national news    अफगानिस्तान    तालिबान    तालिबानी लड़ाके    अफगानिस्तानी राष्ट्रपति    अशरफ गनी    तजाकिस्तान    तजाकिस्तान में छिपा अशरफ गनी    अमेरिकी सैनिक    भारतीय सेना    भारत सरकार    अंतरराष्ट्रीय खबरें    खबरें हिंदी में    हिंदी खबर    imran khan    pakistani pm    iaf    c 17 globemaster    kabul    airlift    indian    nationals stuck       

Todays Beets: