Wednesday, June 26, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

पदोन्नति के लिए डेपुटेशन पर जाने वाले कर्मचारियों पर सरकार सख्त, समय से पहले लौटने पर रद्द होंगी पदोन्नति

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पदोन्नति के लिए डेपुटेशन पर जाने वाले कर्मचारियों पर सरकार सख्त, समय से पहले लौटने पर रद्द होंगी पदोन्नति

शिमला। नौकरियों में पदोन्नति पाने के लिए डेपुटेशन पर जाने वाले अधिकारियों को लेकर हिमाचल प्रदेश सरकार ने सख्त कदम उठाया है। बताया जा रहा है कि राज्य बिजली बोर्ड के कर्मचारी पदोन्नति पाने के लिए डेपुटेशन लेकर पावर काॅरपोरेशन और ट्रांसमिशन काॅरपोरेशन में चले जाते हैं। ऐसा करने वालों को लेकर बोर्ड प्रबंधन सख्त हो गया हैै। डेपुटेशन पर जाने वालों को अब 2 सालों तक वहीं काम करना होगा। ऐसा नहीं करने वालों की पदोन्नति रोक दी जाएगी। 

गौर करने वाली बात है कि हिमाचल प्रदेश में राज्य बिजली बोर्ड से बड़ी संख्या में कर्मचारी ऐसा कर रहे हैं। इस तरह के काम में लगे हुए लोगों पर सरकार ने सख्ती बढ़ा दी है। बोर्ड प्रबंधन ने नियमों में बदलाव करते हुए स्पष्ट किया है कि डेपुटेशन से 2 साल पहले लौटने वाले अफसरों की पदोन्नतियां रद्द कर दी जाएंगी।

ये भी पढ़ें - सरकार की वादाखिलाफी से ‘अन्ना’ नाराज, 2 अक्टूबर से करेंगे भूख हड़ताल


बिजली बोर्ड ने इसके आदेश भी जारी कर दिए हैं। बिजली बोर्ड प्रबंधन ने डेपुटेशन नियमों को सख्त करते हुए नया प्रावधान किया है कि पावर कारपोरेशन और ट्रांसमिशन कारपोरेशन में जो भी अधिकारी जाएगा, उसे 2 साल तक वहीं पर काम करना होगा। बोर्ड अधिकारियों के अनुसार पावर कारपोरेशन और ट्रांसमिशन कारपोरेशन में पदोन्नियां लेने के लिए बिजली बोर्ड से कई अधिकारी अपना डेपुटेशन करवा रहे हैं। पदोन्नति मिलते ही यह अधिकारी थोड़े से समय के भीतर बोर्ड में वापस आ जाते हैं। बोर्ड अधिकारियों की इस कारगुजारी पर लगाम लगाने के लिए प्रबंधन ने डेपुटेशन के नियम सख्त कर दिए हैं।

  

Todays Beets: