Wednesday, June 26, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

भारतीय छात्रों ने लिस्बन में लहराया परचम, इंटरनेशनल फिजिक्स ओलंपियाड 2018 में सभी 5 छात्रों ने जीता स्वर्ण पदक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भारतीय छात्रों ने लिस्बन में लहराया परचम, इंटरनेशनल फिजिक्स ओलंपियाड 2018 में सभी 5 छात्रों ने जीता स्वर्ण पदक

नई दिल्ली। भारत के युवाओं ने इंटरनेशनल फिजिक्स ओलंपियाड 2018 (आईपीएचओ) में एक नया इतिहास रच दिया है। इसमें भाग लेने वाले सभी 5 छात्रों ने स्वर्ण पदक जीता है। ऐसा देश के इतिहास में पहली बार हुआ है। इस बात की जानकारी होमी भाभा सेंटर फॉर साइंस एजुकेशन (एचबीसीएसी) ने ट्वीट करके दी। बता दें कि इस ओलंपियाड में भारत पिछले 21 सालों से भाग ले रहा है। बड़ी बात यह है कि इन 5 छात्रों में से 4 ने कोटा से इंजीनिरिंग की ट्रेनिंग ली है। 

गौरतलब है कि पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन में हुए इस इंटरनेशनल फिजिक्स ओलंपियाड 2018 में 86 देशों के करीब 396 छात्रों ने हिस्सा लिया था। लिस्बन में भारतीय छात्रों का प्रतिनिधित्व मुंबई के भास्कर गुप्ता, कोटा के लय जैन, राजकोट के निशांत अभांगी, जयपुर के पवन गोयल और कोलकाता के सिद्धार्थ तिवारी ने किया।


ये भी पढ़ें -एनआरसी पर विपक्ष के हंगामे पर बोले शाह, कहा- घुसपैठियों को वापस जाना ही होगा

यहां बता दें कि इससे पहले भारत ने इस मुकाबले में 3 बार 4-4 स्वर्ण पदक जीता था।  गौर करने वाली बात है कि लिस्बन में भाग लेने वाले कुल 396 छात्रों में से सिर्फ 42 छात्रों को ही स्वर्ण पदक मिला है।  

Todays Beets: