Tuesday, May 11, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

काशी के महाशमशान में खेली गई चिता भस्म से होली , फोटो में देखें धर्म नगरी का ''रंग''

अंग्वाल न्यूज डेस्क
काशी के महाशमशान में खेली गई चिता भस्म से होली , फोटो में देखें धर्म नगरी का

काशी । देश में होली का त्योहार कई राज्यों में अपनी अपनी पुरानी परंपराओं के अनुसार समय से पहले ही खेलना शुरू हो जाता है । जहां यूपी के बरसाने में खेले जाने वाली होली अपने स्वरूप के लिए प्रसिद्ध है , वहीं धर्म नगरी के रूप में विख्यात काशी में होली की शुरूआत रंगभरी एकादशी से ही हो जाती है । इस दिन से काशीवासी अपने ईष्ट भोलेनाथ के साथ महाश्मसान में चिता भस्म के साथ खेलकर होली के पहले इस पर्व की शुरूआत करते हैं। इसके बाद से काशी में होली की शुरुआत हो जाती है ।

विदित हो कि रंगभरी एकादशी पर काशी के महाश्मशान में खेली गई इस अनूठी होली एक पुरानी दंतकथा से जुड़ी है । मान्यता के अनुसार , इस दिन भगवान विश्वनाथ मां पार्वती का गौना कराकर काशी पहुंचे तो उन्होंने अपने गणों के साथ होली खेली थी । लेकिन वो अपने प्रिय श्मशान पर बसने वाले भूत, प्रेत, पिशाच और अघोरी के साथ होली नहीं खेल पाए थे । इसीलिए रंगभरी एकादशी से विश्वनाथ इनके साथ चिता-भस्म की होली खेलने महाश्मशान पर आते हैं ।

काशी के महाश्मशान हरिश्चंद्र घाट , जहां कभी भी चिता की आग ठंडी नहीं पड़ती , यहां के महाश्मशान में रंगभरी एकादशी को चिता की भस्म से होली खेली जाती है। 

 


इसके बाद से ही काशी में पंचदिवसीय होली पर्व शुरू होती है। हरिश्चंद्र घाट पर महाश्मशान नाथ की आरती से इसकी शुरुआत होती है । इस दौरान एक भव्य शोभायात्रा भी निकाली जाती है। 

ऐसी भी मान्यता है कि जब राजा दक्ष के यज्ञ में सती ने अपने प्राण त्याग दिए तो भोलेनाथ और अन्य देवगण नाराज हो गए। कामदेव के भस्म होने के बाद माता पार्वती का विवाह शिव जी के साथ हुआ . मान्यता अनुसार रंगभरी एकादशी के दिन ही भोलेनाथ माता पार्वती का गौना कराकर काशी ले आए जिससे शिवजी के गणों को काफी खुशी हुई। 

विदित हो कि  काशीवासी महाश्मशान को छूत-अछूत, अपशगुन से परे और नवजीवन से मुक्ति पाने का द्वार मानते हैं । यही कारण है कि वे इस तरह की होली में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेते हैं । 

 

Todays Beets: