Sunday, July 25, 2021

Breaking News

   बिहार: पटना में अवैध टेलीफोन एक्सचेंज का भंडाफोड़, 2 गिरफ्तार     ||   जम्मू-कश्मीर: आतंकवादियों ने पुलिस कांस्टेबल की पत्नी और बेटी पर गोलियां चलाईं, दोनों जख्मी     ||   पेगासस मामला: दुनिया के 14 बड़े नेताओं की भी की गई जासूसी, PM इमरान समेत कई अन्य का लिस्ट में नाम     ||   जाकिर हुसैन मेमोरियल ट्रस्ट केस: कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद की पत्नी के खिलाफ गैर जमानती वॉरंट जारी     ||   पेगासस मामला: शिवसेना ने की जेपीसी जांच की मांग, कहा- यह हमला आपातकाल से भी बदतर     ||   महाराष्ट्र सरकार ने भी HC से कही थी ऑक्सीजन की कमी से मौत ना होने की बात- अमित मालवीय     ||   नवजोत सिंह सिद्धू के आवास पर पहुंचे 62 MLA, पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष बोले- बदलाव की बयार     ||   राम मंदिर ट्रस्ट में भी उठे जमीन खरीद पर सवाल, सीएम योगी ने मांगी रिपोर्ट     ||   यूपीः बसपा से बागी हुए 9 विधायक आज अखिलेश यादव से करेंगे मुलाकात     ||   वैक्सीन विवाद पर अखिलेश यादव बोले, पहले यूपी की सारी जनता को लग जाए, फिर मैं लगवा लूंगा     ||

वैज्ञानिकों ने खोजा हमारे चंद्रमा के आकार वाले मृत तारे को, जानें इसकी खासियत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
वैज्ञानिकों ने खोजा हमारे चंद्रमा के आकार वाले मृत तारे को, जानें इसकी खासियत

नई दिल्ली । खगोलीय घटनाएं हमेशा से ही लोगों को आकर्षित करती रहीं हैं । वहीं हमारे वैज्ञानिक भी समय समय पर ऐसी जानकारी देते रहते हैं , जो हमारे लिए काफी रोचक होती हैं । हाल में वैज्ञानिकों ने ऐसे मृत तारे (Dead Star) की खोज की है जो हमारे चंद्रमा (Moon) के आकार का है । इसका द्रव्यमान हमारे सूर्य (Sun) से बड़ा है ।  इस मृत तारे का नाम ZTF J1901+1458 है जो है तो सिर्फ 4,280 किलोमीटर यानी 2,660 मील की दूरी पर लेकिन उसका आंकलन सूर्य के द्रव्यमान का 1.35 गुना है । 

विदित हो कि यह एक सफेद बौना तारा है, जिसका अर्थ है कि इसका अस्तित्व खत्म हो चुका है । ये मृत तारा हमसे 130 प्रकाश वर्ष दूर स्थित है। प्रकाश वर्ष दूरी नापने की सबसे बड़ी इकाई है। सफेद बौने तारे का अध्ययन करने वाले वैज्ञानिकों की टीम को लगता है कि यह दो सफेद बौने सितारों के बीच विलय के बाद बनी एक यूनिट है । सफेद बौना तारा 100 मिलियन वर्ष पुराना है , जिसमें बेहद मजबूत चुंबकीय प्रभाव है ।

मिली जानकारी के अनुसार , इसका चुंबकीय क्षेत्र सूर्य की तुलना में एक अरब गुना अधिक शक्तिशाली है. शोधकर्ताओं ने वैज्ञानिक पत्रिका नेचर  में अपने अवलोकन प्रकाशित किए हैं । 


दरअसल बीते साल अक्टूबर 2020 में अमेरिकीअंतरिक्ष एजेंसी नासा(NASA) ने आसमान में तारे की मौत का एक वीडियो जारी किया था । नासा ने इस तारे में हुए भीषण विस्फोट का यह अद्भुत वीडियो रिकॉर्डकर ट्विटर पर शेयर किया था। यह विस्फोट धरती से लगभग 7 करोड़ प्रकाश वर्ष की दूरी पर हुआ था । 

नासा के मुताबिक, तारे में यह विस्फोट SN 2018gv सुपरनोवा में हुआ. नासा ने बताया कि इससे पहले तारे की मौत का ऐसा वीडियो कभी नहीं देखा गया है । 

 

Todays Beets: