Friday, September 24, 2021

Breaking News

   तेजस्वी यादव बोले- पेड़, जानवरों की गिनती हो सकती है तो फिर जाति आधारित जनगणना क्यों नहीं     ||   तालिबान की अमेरिका को धमकी, 31 अगस्त के बाद भी रही सेना तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहे    ||   कर्नाटक CM से स्थानीय BJP विधायक की मांग- कोरोना के चलते किसी भी हिंदू पर्व पर ना लगे बंदिशें    ||   तेजप्रताप की नाराजगी के सवाल पर बोले तेजस्वी- राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर ही देंगे जवाब    ||   अंडमान एंड निकोबार के पोर्ट ब्लेयर में महसूस किए गए 4.3 तीव्रता के भूकंप     ||   दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कनॉट प्लेस पर भारत के पहले स्मॉग टावर का उद्घाटन किया     ||   गुजरात में शराबबंदी के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका मंजूर, 12 अक्टूबर को होगी सुनवाई     ||   सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्री ने चेताया, आर्थिक गतिविधियां खुलने के साथ ही बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले     ||   पत्नी शालिनी के आरोपों पर बोले हनी सिंह- सभी आरोप गलत, कोर्ट में चल रहा केस     ||   रांचीः महिला हॉकी में झारखंड से शामिल हर खिलाड़ियों को मिलेंगे 50-50 लाख रुपयेः CM हेमंत सोरेन     ||

IPS Sanjukta Parashar - एके 47 लेकर घूमती हैं यह अफसर , सवा साल में 16 एनकाउंटर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
IPS Sanjukta Parashar - एके 47 लेकर घूमती हैं यह अफसर , सवा साल में 16 एनकाउंटर

नई दिल्ली । 21वीं सदी में भारत नए नए आयाम स्थापित कर रहा है । देश में कई ऐसी महिला पुलिस अफसर हैं , जिन्हें लेडी सिंघम नाम से संबोधित किया जाता है । कई महिला अधिकारी हैं , जिनके कामकाज के तरीकों से न केवल उनके लाखों प्रशंसक हैं , बल्कि उनके विरोधी घबराते हैं । इसी कड़ी में एक और नाम तेजी से ऊपर आ रही है , ये हैं असम की महिला आईपीएस अफसर संजुक्ता पराशर (Sanjukta Parashar) । संजुक्ता पाराशर का नाम असम के बोडो उग्रवादियों के दिलों में दहशत भरने के लिए काफी है ।

70 दहशतगर्दों को गिरफ्तार किया

आलम यह है कि जंगलों में खुद यह महिला अफसर AK 47 जैसे हथियारों को हाथ में घूमती हैं । इन सर्विस रिक़ॉर्ड दहशतगर्दों को भी घबराने वाला है । पिछले 15 महीने में इस महिला आईपीएस ने कई एनकाउंटरों को अंजाम देते हुए 16 आतंकियों को ढेर किया है । इतना ही नहीं पिछले कुछ समय में ही इन्होंने करीब 70 से अधिक दहशतगर्दों को गिरफ्तार किया है । इतना ही नहीं इनके नेतृत्व में भारी संख्या में गोला बारूद भी पकड़ा गया है । 

आईपी - जेएनयू से की है पढ़ाई

जानकारी के अनुसार , असम में जन्मी संजुक्ता पराशर ने अपनी 12वीं तक की पढ़ाई असम से ही की है । ग्रेजुएशन के लिए संयुक्ता दिल्ली आई और उन्होंने आईपी से राजनीति विज्ञान की पढ़ाई की । इसके बाद उन्होंने JNU से इंटरनेशनल रिलेशन में PG और US फॉरेन पॉलिसी में MPhil व Phd की । 

ऑल इंडिया 85वीं रैंक पाई


अपनी पढ़ाई पूरी करने के दौरान उन्होंने सिविल सेवा की परीक्षाएं दी और उसमें सफल भी हुईं । संजुक्ता वर्ष 2006 बैच की IPS अफसर हैं और उन्होंने सिविल सर्विसेज एग्जाम में ऑल इंडिया 85वीं रैंक हासिल की थी । इसके बाद उन्होंने मेघालय-असम कैडर को चुना । उन्हें अपनी पहली पोस्टिंग असम के माकुम में असिस्टेंट कमांडेंट के तौर पर मिली। इसके बाद उन्हें उदालगिरी में बोडो और बांग्लादेशियों के बीच हुई हिंसा को काबू करने के लिए भेजा गया । 

जंगलों में AK-47 लेकर घूमती हैं

संजुक्ता ने अपने अब तक के कार्यकाल में अपनी बहादुरी से उग्रवादियों को हौंसले पस्त किए हैं । संजुक्ता पराशर ने असम के सोनितपुर जिले में एसपी रहते हुए CRPF जवानों की टीम को लीड किया । इस दौरान उन्होंने खुद AK-47 लेकर वोडो उग्रवादियों के साथ हुई लड़ाई में मोर्चा संभाला था । इस ऑपरेशन की फोटो सोशल मीडिया पर भी वायरल हुईं , जिसमें वे अपनी पूरी टीम के साथ हाथों में AK-47 राइफल लिए दिखाईं दी थीं । 

जान से मारने की मिलती रही हैं धमकियां

संजुक्ता के नाम उग्रवादी संगठनों के लिए दहशत का दूसरा नाम है । उग्रवादी ऑर्गनाइजेशन समय समय पर उन्हें जान से मारने की धमकी देते रहते हैं । लेकिन इस सबसे बेखौफ संजुक्ता अपने काम में जुटी हुई हैं । उनकी टीम ने 2014 में 175 आतंकियों और 2013 में 172 आतंकियों को जेल पहुंचाया था । उनका नाम ही इन उग्रवादियों में खलबली मचाने के लिए काफी है । इसकी बानगी इससे भी मिलती है कि वर्ष 2015 में एंटी बोडो आतंकी ऑपरेशन को लीड करते हुए उन्होंने महज 15 महीनों में 16 उग्रवादियों को मार गिराया है। इतना ही नहीं अपने ऑपरेशन के दौरान 64 बोडो उग्रवादियों को जेल भी भेजा। इन उग्रवादियों के पास से गोला बारूद का जखीरा बरामद हुआ है ।  

Todays Beets: