Sunday, June 7, 2020

Breaking News

   उत्तराखंड: कोरोना के 46 नए मामले, कुल पॉजिटिव केस हुए 1199     ||   माले: ऑपरेशन समुद्र सेतु के तहत आईएनएस जलश्व से मालदीव में फंसे 700 भारतीय लाए जा रहे वापस     ||   बिहार: ADG लॉ एंड ऑर्डर ने जताई आशंका, प्रवासियों के आने से बढ़ सकता है अपराध     ||   दिल्ली: बीजेपी के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने संभाला अपना पदभार     ||   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||

निर्भया के गुनहगारों को हाथ-पैरों में प्लास्टर लगा होने के बावजूद फांसी लगाई जाएगी - कानून के जानकार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
निर्भया के गुनहगारों को हाथ-पैरों में प्लास्टर लगा होने के बावजूद फांसी लगाई जाएगी - कानून के जानकार

नई दिल्ली । निर्भया गैंगरेप कांड के चारों दोषियों को आगामी 3 मार्च को दिल्ली की तिहाड़ जेल में फांसी दिए जाने का डेथ वारंट जारी हो चुका है । चारों को एक साथ फांसी दिए जाने की तैयारी जारी है । लेकिन इस सब के बीच दोषी अपनी सजा से बचने के लिए हर साजिश रच रहे हैं । पिछले दिनों दोषियों में से एक विनय ने फांसी की सजा से बचने के लिए अपने सिर को दीवार पर मारकर चोटिल कर लिया था । ऐसा कहा जा रहा है कि उसे इस बात के बारे में जानकारी दी गई थी कि अगर वह घायल हो जाता है तो उसकी 3 मार्च को होने वाली फांसी टल जाएगी । लेकिन बताने वालों ने उसे जेल मैन्यूवल के बारे में पूरी जानकारी नहीं दी ।

कानून के जानकारों का कहना है कि महज दो स्थिति में ही फांसी को रोका जाता है , अगर फांसी की सजा पाने वाले शख्स किसी जानलेवा बीमारी से ग्रसित हो या वह मानसिक रूप से गंभीर बीमार हो जाए । इस सब के बीच अगर निर्भया के चारों गुनहगारों द्वारा खुद को घायल करने की साजिश रची जाती है और उनके हाथ पैर टूटते हैं तो प्लास्टर लगे होने के बावजूद उन्हें फांसी पर लटकाया जाएगा । 

बता दें कि निर्भया के चारों गुनहगारों के लिए तीसरा डेथ वारंट जारी हो चुका है , जिसके तहत चारों को 3 मार्च की सुबह 6 बजे एकसाथ फांसी पर लटकाया जाएगा। हालांकि दोषी अपनी इस सजा से बचने के लिए हर हथकंडा अपना रहे हैं । पिछले दिनों आरोपी विनय ने कोर्ट में याचिका दाखिल की है कि वह मानसिक रूप से बीमार है ऐसे में उसे फांसी नहीं हो सकती । इतना ही नहीं दोषी की ओर से चुनाव आयोग को एक पत्र लिखकर कहा है कि जिस समय दिल्ली सरकार की ओर से सतेंद्र जैन ने दया याचिका को खारिज किया था उस समय वह मंत्री थे ही नहीं । उस दौरान दिल्ली विधानसभा चुनाव थे और वह याचिका को खारिज कर ही नहीं सकते । 


बहरहाल , आरोपी खुद को बचाने के लिए अपनी हर जुगत लगा रहे हैं । हालांकि यह भी तय है कि अब केवल एक दोषी पवन के पास ही क्यूरेटिव पीटिशन के साथ दया याचिका लगाने का विकल्प बाकी है। अगर उसकी ओर से ऐसी कोई याचिका लगाई जाती है तो देखना होगा कि क्या एक बार फिर से डेथ वारंट रद्द किया जाएगा । 

हालांकि जेल सूत्रों का कहना है कि चारों दोषी गत 17 फरवरी के बाद से सहम गए हैं । चारों न तो अब ठीक से खाना खा रहे हैं और बदहवाश से नजर आ रहे हैं । पवन को छोड़कर तीनों दोषियों को रोते हुए भी देखा गया है । हालांकि मनोचिकित्सक लगातार इनसे बात कर रहे हैं । 

Todays Beets: