Sunday, July 5, 2020

Breaking News

   उत्तराखंड: कोरोना के 46 नए मामले, कुल पॉजिटिव केस हुए 1199     ||   माले: ऑपरेशन समुद्र सेतु के तहत आईएनएस जलश्व से मालदीव में फंसे 700 भारतीय लाए जा रहे वापस     ||   बिहार: ADG लॉ एंड ऑर्डर ने जताई आशंका, प्रवासियों के आने से बढ़ सकता है अपराध     ||   दिल्ली: बीजेपी के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने संभाला अपना पदभार     ||   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||

मधुर भंडारकर - कंगना - प्रसून जोशी समेत 61 दिग्गजों का PM मोदी पर 'तंज' करने वालों पर पलटवार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मधुर भंडारकर - कंगना - प्रसून जोशी समेत 61 दिग्गजों का PM मोदी पर

नई दिल्ली । केंद्र की मोदी सरकार को सवालों के घेरे में खड़ते हुए बॉलीवुड की कुछ हस्तियों समेत 49 शख्सियतों ने पिछले दिनों देश में हो रहीं मॉब लिन्चिंग और 'जय श्री राम' के नारे को एक हथियार के तौर पर इस्तेमाल किए जाने के आरोप लगाते हुए चिंता जताई थी । लेकिन अब इन लोगों को जवाब देते हुए 61 अन्य शख्सियतों ने पीएम मोदी को एक खुला खत लिखकर आड़े हाथों लिया है । भारतीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (CBFC) के प्रमुख प्रसून जोशी, बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत, फिल्मकार मधुर भंडारकर, तथा विवेक अग्निहोत्री के अलावा शास्त्रीय नर्तकी व राज्यसभा सदस्य सोनल मानसिंह समेत कई अन्य दिग्गजों ने अपने खत में मोदी सरकार को सवालों के घेरे में खड़ा करने वालों पर 'चुनिंदा घटनाओं पर गुस्सा जताने, झूठे किस्से सुनाने और साफतौर पर राजनैतिक पक्षपात' के आरोप लगाए हैं । 

मोदी सरकार ने एसोचैम की मांग मानी तो 48 रुपये होगी देश में पेट्रोल की कीमत , 25 रुपये की कटौती है संभव

इन 61 दिग्गजों के खत में लिखा गया है, "23 जुलाई, 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम प्रकाशित खुले खत ने हमें अचंभे में डाल दिया है... देश की चेतना के 49 स्वयंभू रखवालों और अभिभावकों ने चुनिंदा चिंता व्यक्त की है, और साफतौर पर राजनैतिक पक्षपात का प्रदर्शन किया है... हम लोगों ने, जिन्होंने इस खत पर साइन किए हैं, हमारी नजर में चुनिंदा रूप से भड़ास निकालना , एक फर्जी किस्से को सच्चा साबित करने की कोशिश करना है ।  पीएम मोदी के प्रयासों को नकारात्मक रूप से दिखाने की कोशिश है...

कर्नाटक LIVE :  येदियुरप्पा आज 6 बजे शपथ लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ , 7 दिन बाद करना होगा बहुमत साबित 


इस खत में इन दिग्गजों ने मोदी सरकार पर तंज करने वालों पर हल्ला बोलते हुए लिखा है - खुले खत पर दस्तखत करने वालों ने अतीत में उस समय चुप्पी साधे रखी थी, जब जनजातीय लोगों और हाशिये पर सरक चुके लोगों को नक्सलियों ने शिकार बनाया था... वे उस समय भी चुप्पी साधे रहे थे, जब अलगाववादियों ने कश्मीर में स्कूलों को जला डालने का फरमान जारी किया था । वे तब भी खामोश रहे थे, जब भारत को तोड़ने की मांग की गई थी।"

LokSabha LIVE: आजम के विवादित बोल पर महिला सांसदों का 'हल्ला बोल' , स्मृति बोलीं- पहले किसी पुरुष ने ऐसी हिमाकत नहीं की

इस नए खत में लिखा गया है - दरअसल,  मोदी सरकार के कार्यकाल में अलग राय रखने, सरकार को कोसने और उसकी आलोचना करने की सबसे ज्यादा आजादी है , असहमति की भावना इससे ज्यादा मजबूत कभी नहीं रही है । 

 

Todays Beets: