Friday, May 14, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

सुप्रीम कोर्ट ने रद्द किया मराठा आरक्षण , कहा - यह आरक्षण की 50 फीसदी की सीमा का उल्लंघन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट ने रद्द किया मराठा आरक्षण , कहा - यह आरक्षण की 50 फीसदी की सीमा का उल्लंघन

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को एक बड़ा फैसला सुनाते हुए महाराष्ट्र सरकार की ओर से दिए गए मराठा आरक्षण को खारिज कर दिया है । सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की संवैधानिक पीठ ने इस मुद्दे पर सुनवाई करते हुए यह फैसला सुनाया । कोर्ट ने इस मामले पर सुनवाई करते हुए कहा कि मराठा आरक्षण , आरक्षण की 50 फीसदी की सीमा का उल्लंघन है , इसलिए इसे ज्यादा नहीं बढ़ाया जा सकता। अदालत ने कहा कि यह समानता के अधिकार का हनन है। इसके साथ ही अदालत ने 2018 के राज्य सरकार के कानून को भी खारिज कर दिया है। इसके साथ ही अदालत ने 1992 के इंदिरा साहनी केस में दिए गए फैसले की समीक्षा करने से भी इनकार कर दिया है। 

आपको बता दें कि महाराष्ट्र सरकार ने आरक्षण की 50 फीसदी की सीमा से बाहर जाते हुए मराठा समुदाय को नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में आरक्षण का ऐलान किया था। राज्य सरकार की ओर से 2018 में लिए गए इस फैसले के खिलाफ कई याचिकाएं सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई थीं । इस मामले में सुप्रीम कोर्ट की एक पांच सदस्यीय पीठ ने सुनवाई की है । 

जस्टिस अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली बेंच (जिसमें अशोक भूषण के अलावा जस्टिस एल. नागेश्वर राव, एस. अब्दुल नजीर, हेमंत गुप्ता और एस. रवींद्र भट शामिल थे) ने केस की सुनवाई करते हुए कहा कि मराठा आरक्षण देने वाला कानून 50 पर्सेंट की सीमा को तोड़ता है और यह समानता के खिलाफ है। इसके अलावा अदालत ने यह भी कहा कि राज्य सरकार यह बताने में नाकाम रही है कि कैसे मराठा समुदाय सामाजिक और आर्थिक तौर पर पिछड़ा है। इसके साथ ही इंदिरा साहनी केस में 1992 के शीर्ष अदालत के फैसले की समीक्षा से भी कोर्ट ने इनकार कर दिया है। 


विदित हो कि वर्ष 1992 में 9 जजों की संवैधानिक बेंच ने आरक्षण की 50 फीसदी की सीमा तय की थी। इसी साल मार्च में 5 जजों की संवैधानिक बेंच ने इस पर सुनवाई पर सहमति जताई थी कि आखिर क्यों कुछ राज्यों में इस सीमा से बाहर जाकर आरक्षण दिया जा सकता है। 

 

Todays Beets: