Tuesday, June 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

पटना में एक बार फिर ‘प्रकट’ हुए तेजप्रताप, खुद को ‘कृष्ण’ और तेजस्वी को ‘अर्जुन’ बताया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पटना में एक बार फिर ‘प्रकट’ हुए तेजप्रताप, खुद को ‘कृष्ण’ और तेजस्वी को ‘अर्जुन’ बताया

पटना। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव अपनी धार्मिक यात्रा को विराम देकर सोमवार को पटना वापस लौट आए हैं और राजनीति में एक बार फिर से सक्रिय हो गए हैं। पटना में राष्ट्रीय जनता दल के बंद कार्यालय को जबरन खुलवाकर लालू प्रसाद की कुर्सी पर बैठकर कहा कि उनकी राजनीति के आगे जो भी आएगा वह ध्वस्त हो जाएगा। तेजप्रताप यादव ने भगवदगीता पर हाथ रखते हुए कहा कि अगला चुनाव इसी के आधार पर लड़ा जाएगा। उन्होंने खुद को ‘कृष्ण’ और तेजस्वी यादव को ‘अर्जुन’ बताया। हालांकि तेजप्रताप ने घर वापस लौटने के सावल का कोई जवाब नहीं दिया। 

गौरतलब है कि पिछले दिनों तेजप्रताप यादव अपनी पत्नी ऐश्वर्या राय से तलाक की अर्जी फैमिली कोर्ट में देने के बाद अचानक ही पटना से गायब होने के बाद सुर्खियांे में आ गए थे। वे गया के एक होटल से आधी रात को अचानक गायब हो गए थे और बाद में वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर में दोस्तों के साथ पूजा करते हुए मिले थे। इसके बाद वे वृंदावन चले गए थे। बता दें कि पत्नी से तलाक लेने के मामले में सुनवाई के दौरान उन्हांेंने स्पष्ट कर दिया था कि वे अपनी अर्जी वापस नहीं लेंगे और अपनी लड़ाई लड़ेंगे। 

ये भी पढ़ें - भोपाल में कमलनाथ की ताजपोशी की तैयारी पूरी, बड़ी संख्या में पहुंचे विपक्षी दलों के नेता, शिवरा...


यहां बता दें कि सोमवार को तेजप्रताप राजद के कार्यालय में पहुंचकर लालू प्रसाद का कमरा खुलवाकर उनकी कुर्सी पर बैठकर कहा कि वे एक बार फिर से सक्रिय राजनीति में वापस आ गए हैं। पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी के अंदर और बाहर दोनों ही जगह बड़े विरोधी हैं और इससे निपटने के लिए कृष्ण और अर्जुन की जरूरत है। खुद को कृष्ण और अपने छोटे भाई और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी को अर्जुन बताते हुए उन्होंने चुनावी महाभारत जीतने का दावा किया। उन्होंने कहा कि कृष्ण के बिना अर्जुन को जीत नहीं मिल सकती है। उन्हांेने कहा कि तेजप्रताप के सामने राजनीति में जो भी आएगा वह ध्वस्त हो जाएगा। 

आपको बता दें कि उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अलग बंगले की मांग कर रहे हैं लेकिन सरकार के पास बंगला नहीं है। हालांकि उन्होंने परिवार के पास लौटने वाले सवाल पर कोई जवाब नहीं दिया। 

 

Todays Beets: