Wednesday, June 26, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

मेदांता अस्पताल ने लाखों का बिल देने में असमर्थ मरीज को बनाया बंधक, बेटे ने कहा- मेरा कोई भी अंग लेकर पिता को छोड़ दो

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मेदांता अस्पताल ने लाखों का बिल देने में असमर्थ मरीज को बनाया बंधक, बेटे ने कहा- मेरा कोई भी अंग लेकर पिता को छोड़ दो

नई दिल्ली। दिल्ली से सटे गुरुग्राम के एक नामी अस्पताल से मरीजों से बेदर्द व्यवहार की खबर सामने आई है। गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल के द्वारा करीब 28 लाख के बिल बकाए के एवज में डिस्चार्ज हो चुके मरीज को छोड़ा नहीं जा हा है। मरीज के बेटे ने बिल चुकाने में अपनी असमर्थता जताते हुए अस्पताल को अपना कोई भी अंगदान कर बिल वसूलने का अनुरोध किया है। मरीज के बेटे ने मुख्यमंत्री और मानवाधिकार आयोग से गुहार लगाई है। गौर करने वाली बात है कि दिल्ली के शालीमार बाग निवासी अमित सैनी ने दिल की बीमारी से ग्रसित अपने पिता को मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया था और अब तक वह करीब साढ़े 10 लाख रुपये जमा कर चुका है। 

गौरतलब है कि अमित सैनी ने अगस्त में अपने 62 वर्षीय पिता को मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया था। डाॅक्टरों ने बताया कि उसके पिता की आरोटा नस फट गई है। इसके बाद उनका इलाज शुरू किया गया और इलाज के बाद उसे करीब 40 लाख रुपये का बिल थमा दिया गया। अमित का कहना है कि उसने करीब साढ़े 10 लाख रुपये जमा कर चुका है लेकिन अस्पताल की ओर से बकाया राशि का भुगतान न करने के चलते उनके पिता को बंधक बनाया हुआ है जबकि 1 दिसंबर को ही उसके पिता को डिस्चार्ज कर दिया गया है।  


ये भी पढ़ें - मुंबई स्थित जिन्ना हाउस होगा भारतीय विदेश मंत्रालय का, अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू

यहां बता दें कि अमित सैनी ने बताया कि वह बिल भरने में असमर्थ है। ऐसे में अब वह बकाया राशि जमा करने में असमर्थ है। अमित सैनी ने आरोप लगाए कि अस्पताल प्रशासन के सभी बड़े अधिकारियों से गुहार लगाई लेकिन किसी ने कोई मदद नहीं की गई। अस्पताल में वार्ड के बाहर उसके पिता के नाम के आगे डिस्चार्ज लिखा है लेकिन बिलिंग विभाग का कहना है कि जबतक बिल जमा नहीं किया जाएगा उसके पिता को छुट्टी नहीं दी जाएगी। अब अमित ने मुख्यमंत्री और मानवाधिकार आयोग से इस मामले को लेकर गुहार लगाई है। 

Todays Beets: