Tuesday, November 30, 2021

Breaking News

   टीम इंडिया भी रद्द कर सकती है साउथ अफ्रीका दौरा? इस वजह से बढ़ी टेंशन     ||   CJI सीजेआई ने सरकार को दी ये नसीहत, कहा- तभी निडर होकर काम कर पाएंगे जज     ||   DNA: अमेरिका की महागरीबी का विश्लेषण, 17 प्रतिशत आबादी है गरीबी रेखा से नीचे     ||   कृषि कानूनों को रद्द करने का रास्ता साफ, लोक सभा में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर पेश करेंगे बिल     ||   52वां इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया 20 से 28 नवंबर तक गोवा में होगा     ||   पीएम मोदी की अपील- मेड इन इंडिया सामान खरीदने पर जोर दें, इसके लिए सब प्रयास करें     ||   भारत में 100 करोड़ वैक्सीनेशन पर बिल गेट्स ने दी पीएम मोदी को बधाई     ||   सेना की 39 महिला अफसरों की बड़ी जीत, मिलेगा स्थायी कमीशन; SC ने दिया आदेश     ||   बिहार में महागठबंधन टूटा, कांग्रेस का ऐलान 2024 के आम चुनाव में सभी 40 सीटों पर लड़ेगी पार्टी     ||   तेजस्वी यादव बोले- पेड़, जानवरों की गिनती हो सकती है तो फिर जाति आधारित जनगणना क्यों नहीं     ||

यूपी कांग्रेस को बड़ा झटका , प्रियंका गांधी के करीबी पार्टी के दो बड़े नेता चुनावों से पहले सपा में होंगे शामिल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपी कांग्रेस को बड़ा झटका , प्रियंका गांधी के करीबी पार्टी के दो बड़े नेता चुनावों से पहले सपा में होंगे शामिल

लखनऊ । उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों से पहले एक बार फिर से कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है । असल में प्रदेश प्रभारी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी के करीबी और कांग्रेस से पूर्व विधायक हरेंद्र मलिक और उनके बेटे और पूर्व विधायक पंजक मलिक अब से थोड़ी देर बाद समाजवादी पार्टी में शामिल हो जाएंगे । सुबे के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की मौजूदगी में दोनों सपा की सदस्यता ग्रहण करेंगे । 

विदित हो कि सुबे में विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस को एक के बाद एक झटके लग रहे हैं । अब पार्टी के वरिष्ठ नेता हरेंद्र मलिक (Harendra Malik) ने अपने बेटे पंकज मलिक (Pankaj Malik) के साथ मिलकर कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है । 


यह पार्टी के लिए एक बड़ा झटका है क्योंकि हरेंद्र मलिक और पंकज मलिक पश्चिमी यूपी के जाट चेहरे के तौर पर जाने जाते हैं। इतना ही नहीं हरेंद्र मलिक यूपी में प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) की सलाहकार समिति के सदस्य भी थे । वहीं उनके बेटे पंकज मलिक (Pankaj Malik) पश्चिमी यूपी के इंचार्ज थे । 

बदा दें कि गत विधानसभा चुनावों में सपा - कांग्रेस ने मिलकर चुनाव लड़ा था । सपा ने कांग्रेस से समझौता कर 311 सीटों पर चुनाव लड़ा था, जबकि सहयोगी कांग्रेस ने 114 सीटों पर किस्मत आजमाई थी । चुनाव में सपा को केवल 47 सीटें ही मिलीं और उसको 21.82 फीसदी वोट मिले थे । वहीं कांग्रेस केवल 7 सीटें ही जीत पाई थी और उसे 6.25 फीसद वोट मिले थे। जबकि भाजपा ने दमदार प्रदर्शन करते हुए 312 सीटों पर जीत दर्ज करते हुए प्रचंड बहुमत हासिल किया था । वहीं बसपा ने सभी सीटों पर चुनाव लड़ा लेकिन वह मात्र 19 सीटें ही जीत पाई थी । 

Todays Beets: