Thursday, December 1, 2022

Breaking News

   सुकेश चंद्रशेखर विवाद के बीच तिहाड़ जेल से हटाए गए DG संदीप गोयल, संजय बेनीवाल को मिली कमान     ||   MHA ने NIA के 2 नए विंग को दी मंजूरी, 142 जांच अधिकारी-कर्मचारी बढ़ाए     ||   पाकिस्तान को बाढ़ से निपटने के लिए 10 अरब डॉलर की जरूरत, मंत्री का बयान     ||   सुप्रीम कोर्ट ने 1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस से जुड़े सभी मामलो को बंद किया     ||   मनीष के घर-लॉकर से कुछ नहीं मिला, ईमानदार साबित हुए: CM केजरीवाल     ||   दिल्ली: JP नड्डा को बताना चाहता हूं, बच्चा चुराने लगी है BJP- मनीष सिसोदिया     ||   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||

लड़कियां बेपर्दा घूमेंगी तो आवारगी बढ़ेगी , भाजपा ने देश में माहौल बिगाड़ रखा है - सपा सांसद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लड़कियां बेपर्दा घूमेंगी तो आवारगी बढ़ेगी , भाजपा ने देश में माहौल बिगाड़ रखा है - सपा सांसद

न्यूज डेस्क । हिजाब प्रकरण को लेकर गुरुवार सुबह सुप्रीम कोर्ट की दो सदस्यीय पीठ ने अपना फैसला सुनाया । जहां एक जज ने हिजाब पर बैन लगाए जाने के फैसले को सही ठहराते हुए याचिकाकर्ताओं की मांग को खारिज कर दिया , वहीं दूसरे जज ने हिजाब पर प्रतिबंध लगाने जाने के कर्नाटक हाईकोर्ट के फैसले को खारिज कर दिया । इस पूरे मुद्दे पर अब सियायी पार्टियों के नेताओं की बयानबाजी सामने आने लगी है । इसी क्रम में सपा के सांसद शफीकुर्रहमान ने कहा कि अगर देश में लड़कियां बेपर्दा घूमेंगी तो इससे आवारगी बढ़ेगी । भाजपा देश का माहौल खराब कर रही है । वहीं हरियाणा सरकार के गृहमंत्री अनिल विज ने कहा कि जिन पुरुषों का महिलाओ को देखकर मन मचलता था उन्होंने ही महिलाओं को हिजाब डालने के लिए मजबूर किया ।

विदित हो कि हिजाब प्रकरण पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने कहा कि अभी हमें सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार है । लेकिन कोर्ट ने कहा कि लड़कियों को अपने धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार है । वैसे भी अगर लड़कियां बेपर्दा घूमेंगी तो आवारागर्दी बढ़ जाएगी । यह सब भाजपा द्वारा माहौल खराब किए जाने की चाल है । 

केजरीवाल सरकार पर लगा 900 करोड़ का जुर्माना , कूड़े के पहाड़ों का निस्तारण नहीं करने पर कार्रवाई

इससे पहले हरियाणा के मंत्री अनिल विज ने एक ट्वीट करते हुए हिजाब मामले पर लिखा, 'जिन पुरुषों का महिलाओ को देखकर मन मचलता था उन्होंने ही महिलाओं को हिजाब डालने के लिए मजबूर किया. आवश्यकता तो अपने मन को मजबूत करने की थी परंतु सजा महिलाओं को दी गई ।उनको सिर से लेकर पांव तक ढ़ाक दिया । यह सरासर नाइंसाफी है. पुरुष अपना मन मजबूत करे और महिलाओ को हिजाब से मुक्ति दें।  जिन पुरुषों का महिलाओ को देखकर मन मचलता था उन्होंने ही महिलाओं को हिजाब डालने के लिए मजबूर किया । आवश्यकता तो अपने मन को मजबूत करने की थी परंतु सजा महिलाओं को दी गई उनको सिर से लेकर पांव तक डाक दिया। यह सरासर नाइंसाफी है । पुरुष अपना मन मजबूत करे और महिलाओ को हिजाब से मुक्ति दें । 

हिजाब को लेकर SC के जजों की राय बंटी , एक ने बैन जारी रखा - दूसरे ने हटाया , मामला बड़ी बेंच को भेजा


बता दें कि हिजाब को लेकर जारी लड़ाई पर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट की दो सदस्यीय पीठ ने अपना फैसला सुनाया । इस दौरान जस्टिस हेमंत गुप्ता ने जहां कर्नाटक हाईकोर्ट के फैसले को सही ठहराते हुए याचिकाकर्ताओं की याचिका को खारिज कर दिया । वहीं पीठ के दूसरे जस्टिस सुधांशु धूलिया ने अपने फैसले में हाईकोर्ट के बैन को खारिज कर दिया । उन्होंने कहा कि हिजाब पहनना धार्मिक स्वतंत्रता का मामला है । उन्होंने हाईकोर्ट के फैसले को खारिज करते हुए कहा कि हमने अपने फैसले में लड़कियों की शिक्षा को ध्यान में रखा है । 

दोनों जजों की राय अलग अलग आने होने पर अब इस मामले को चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया यूयू ललित (CJI UU Lalit) के पास भेज दिया गया है । पीठ ने उनसे बड़ी बेंच में सुनवाई का आग्रह किया गया है । सुप्रीम कोर्ट के दोनों जजों का फैसला अलग होने के बाद कर्नाटक हिजाब बैन पर कर्नाटक हाईकोर्ट का फैसला बरकरार रहेगा और हिजाब पर बैन जारी रहेगा । 

जियो - एयरटेल को टक्कर देने अब मैदान में कूदेंगा अड़ानी ग्रुप! कंपनी को मिला टेलीकॉम सेक्टर का लाइसेंस

विदित हो कि 24 मार्च को याचिकाकर्ता कर्नाटक हाईकोर्ट के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) पहुंचे थे । कोर्ट में जस्टिस हेमंत गुप्ता और जस्टिस सुधांशु धूलिया की बेंच में 10 दिनों तक हिजाब विवाद पर जोरदार बहस चली । जिरह के दौरान मुस्लिम पक्ष ने जहां एक ओर हिजाब की तुलना पगड़ी और क्रॉस से की, तो वहीं जस्टिस हेमंत गुप्ता ने इस पर तीखी टिप्पणी की । दस दिन चली सुनवाई के बाद 22 सितंबर को पीठ ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था । 

कर्नाटक हाईकोर्ट ने 15 मार्च को राज्य के उडुपी में गवर्नमेंट प्री-यूनिवर्सिटी गर्ल्स कॉलेज की मुस्लिम छात्राओं के एक वर्ग द्वारा कक्षाओं के अंदर हिजाब पहनने की अनुमति देने वाली याचिकाओं को खारिज कर दिया था. हाई कोर्ट ने कहा था कि हिजाब पहनना इस्लाम में आवश्यक धार्मिक प्रथा का हिस्सा नहीं है ।  

Todays Beets: