Sunday, July 25, 2021

Breaking News

   बिहार: पटना में अवैध टेलीफोन एक्सचेंज का भंडाफोड़, 2 गिरफ्तार     ||   जम्मू-कश्मीर: आतंकवादियों ने पुलिस कांस्टेबल की पत्नी और बेटी पर गोलियां चलाईं, दोनों जख्मी     ||   पेगासस मामला: दुनिया के 14 बड़े नेताओं की भी की गई जासूसी, PM इमरान समेत कई अन्य का लिस्ट में नाम     ||   जाकिर हुसैन मेमोरियल ट्रस्ट केस: कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद की पत्नी के खिलाफ गैर जमानती वॉरंट जारी     ||   पेगासस मामला: शिवसेना ने की जेपीसी जांच की मांग, कहा- यह हमला आपातकाल से भी बदतर     ||   महाराष्ट्र सरकार ने भी HC से कही थी ऑक्सीजन की कमी से मौत ना होने की बात- अमित मालवीय     ||   नवजोत सिंह सिद्धू के आवास पर पहुंचे 62 MLA, पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष बोले- बदलाव की बयार     ||   राम मंदिर ट्रस्ट में भी उठे जमीन खरीद पर सवाल, सीएम योगी ने मांगी रिपोर्ट     ||   यूपीः बसपा से बागी हुए 9 विधायक आज अखिलेश यादव से करेंगे मुलाकात     ||   वैक्सीन विवाद पर अखिलेश यादव बोले, पहले यूपी की सारी जनता को लग जाए, फिर मैं लगवा लूंगा     ||

योगी सरकार का बड़ा फैसला , मिशन -2022 से पहले भाजपा कार्यकर्ताओं पर दर्ज मुकदमें वापस होंगे

अंग्वाल न्यूज डेस्क

योगी सरकार का बड़ा फैसला , मिशन -2022 से पहले भाजपा कार्यकर्ताओं पर दर्ज मुकदमें वापस होंगे

लखनऊ । उत्तर प्रदेश की योगी सरकार मिशन 2022 की तैयारियों में जुट गई है । इसी क्रम में राज्यभर में बैठकों का दौर जारी है । हालांकि पार्टी ने अपने नाराज कार्तकर्ताओं को मनाने के लिए अब एक बड़ा फैसला लिया है । सामने आया है कि यूपी में अब भाजपा अपने कार्यकर्ताओं पर दर्ज मुकदमों को वापस लेगी । ये वह मुकदमें होंगे जो पूर्वी की सपा और बसपा सरकारों के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं के आंदोलन और धरना प्रदर्शन के दौरान राजनीतिक और फर्जी मुकदमें दर्ज करवाए गए थे । 

विदित हो कि अगले साल यानी 2022 में होने वाले यूपी व‍िधानसभा चुनाव की तैयारी को लेकर भाजपा ने कमर कस ली है । अपने नाराज़ कार्यकर्ताओं को साधने में जुटी है भाजपा ने जहां मंत्रियों को जि‍लों में प्रवास कर कार्यकर्ताओं के साथ संवाद स्थापित करने के आदेश जारी किए हैं, वहीं कार्यकर्ताओं को भी बड़ी राहत देने का फैसला लिया है । 

असल में योगी सरकार ने फैसला लिया है कि पूर्व की सपा और बसपा सरकारों के दौरान राज्य सरकार के खिलाफ आंदोलन और धरना प्रदर्शन के वक्त , भाजपा कार्यकर्ताओं पर जो राजनीतिक और फर्जी मुकदमें दर्ज किए गए थे वे सभी अब वापस लिए जाएंगे । 


बता दें कि सपा और बसपा शासन में दर्ज 5000 से अधिक मुकदमें वापस लिए जाएंगे । जुलाई तक बाकी केस वापस लेने की कवायद शुरू होगी। बीएल संतोष के साथ बैठक में कई पार्टी के बड़े पदाधिकारियों ने ये मुद्दा उठाया था, जि‍सके बाद ये फैसला लिया गया है । 

इस मुद्दे पर क़ानून मंत्री ब्रिजेश पाठक ने कहा है कि ये सतत प्रक्रिया है. ऐसे मुक़दमे को राजनीतिक द्वेष की वजह से या आंदोलन के चलते दर्ज किए गए थे । उनका परीक्षण कर हम ऐसे मुक़दमे वापस ले रहे है और आगे भी ये प्रक्रिया जारी रहेगी। यूपी सरकार इसके पहले भी अपनी पार्टी के नेताओं मंत्रियों और कार्यकर्ताओं के मुकदमें वापस लेने को लेकर न्याय विभाग से रिपोर्ट मांगी थी. सरकार चुनाव से पहले कार्यकर्ताओं को खुश करना चाहती है।

Todays Beets: