Monday, October 26, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

यूपी में बिजली कर्मचारियों ने किया ''ब्लैकआउट'' , निजीकरण के विरोध में कई जिलों की बत्ती गुल 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपी में बिजली कर्मचारियों ने किया

लखनऊ । उत्तर प्रदेश में बिजली विभाग के कर्मचारियों ने निजीकरण के विरोध में सोमवार को सुबे की योगी सरकार के खिलाफ हल्ला बोलते हुए लोगों के लिए ''ब्लैकआउट '' का संकट खड़ा कर दिया है । आज से यूपी में बिजली विभाग के कर्मचारी-अधिकारी हड़ताल पर चले गए हैं । इस मामले में उग्र होते हुए पूर्वी उत्तर प्रदेश के बिजली विभाग के कर्मचारियों ने अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए देवरिया, चंदौली, आजमगढ़, मऊ, मिर्जापुर समेत कई जिलों की बत्ती गुल कर दी है । इन जिलों में बिजली कर्मचारियों ने काम का बहिष्कार किया है । 

बता दें कि योगी सरकार ने बिजली विभाग के निजीकरण को लेकर योजना बनाई है । इसका विरोध करते हुए पिछले कुछ दिनों से बिजली कर्मचारी पूरी तरह से हड़ताल पर जाने की रणनीति बना रहे थे । इसी क्रम में सोमवार दोपहर बाद से यूपी के बिजली विभाग के कर्मचारी न केवल हड़ताल पर चले गए हैं , बल्कि उनके इस फैसले के बाद पूर्वी उत्तर प्रदेश के कई जिलों में ब्लैक आउट भी हो गया है । 

चंदौसी में विभागीय कर्मचारियों ने पावर हाउस में ताला लगा दिया है साथ ही बिजली आपूर्ति भी ठप कर दी है ।  दीनदयाल उपाध्याय नगर सहित इलाके के दर्जनों गांव अंधेरे में डूब गए हैं । इतना ही नहीं इसी क्रम में बिजली कर्मचारियों ने मऊ, आजमगढ़, देवरिया और मिर्जापुर समेत कई जिलों में बत्ती गुल कर दी है । 


इन हड़ताली कर्मचारियों का कहना है कि सरकार ने तानाशाही रवैया अपनाते हुए बिजली विभाग को निजी हाथों में सौंपने का जो फैसला किया है, वह सही नहीं है ।  हड़ताली कर्मचारियों ने सरकार को कर्मचारी संगठनों के साथ 5 अप्रैल 2018 को इस विषय पर हुए समझौते का पालन करना चाहिए। 

इस समझौते के अनुसार , साफ हुआ था कि निजीकरण से संबंधित कोई भी फैसला लेने से पहले सरकार कर्मचारियों को विश्वास में लेगी । इतना ही नहीं उनकी राय के बिना कोई फैसला नही लिया जाएगा । 

Todays Beets: