Friday, May 14, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

''आप'' विधायक शोएब इकबाल ने की दिल्ली में राष्ट्रपति शासन की मांग , कहा- दिल्ली में न दवा न ऑक्सीजन

अंग्वाल न्यूज डेस्क

नई दिल्ली । कोरोना काल में दिल्ली सरकार के कामों को लेकर जहां कोर्ट तक ने केजरीवाल सरकार को फटकार लगाई है , वहीं अब आम आदमी पार्टी के भीतर भी फूट पड़ती दिखाई दे रही है । असल में पार्टी के विधायक शोएब इकबाल ने दिल्ली में कोरोना काल के बीच अव्यवस्था बुरी तरह से फैलने की बात कहते हुए हाईकोर्ट से दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग कर डाली है । हालांकि उन्होंने अपनी बातों में जहां केंद्र सरकार को आड़े हाथ लिया है , वहीं केजरीवाल सरकार द्वारा भी स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाने में नाकाम होने की बात कही है । 

विदित हो कि दिल्ली के मटियामहल से विधायक शोएब इकबाल ने राष्ट्रीय राजधानी में स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली पर सवाल उठाए हैं । उन्होंने केंद्र और राज्य सरकार पर सवाल उठाते हुए हाईकोर्ट में शिकायत की है कि दिल्ली में मरीजों को न दवा मिल रही है और न ही अस्पताल व ऑक्सीजन। किसी की कोई सुनवाई नहीं हो रही और लोगों की जानें जा रही हैं।


उन्होंने कहा कि उन्हें बेहद दुख है कि वह किसी की मदद नहीं कर पा रहे हैं। छह बार विधायक होने के बाद भी उनकी कोई सुनवाई नहीं है। उनका कहना है कि वह तो यही चाहते हैं दिल्ली में तुरंत राष्ट्रपति शासन लग जाए वरना यहां लाशें बिछ जाएंगी।

हालांकि शोएब इकबाल का कहना है कि दिल्ली सरकार को केंद्र से सहयोग नहीं मिल रहा है । अगर केंद्र के हाथ में सबकुछ आए तो काम हो पाएगा। तीन माह के लिए दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लगना ही चाहिए।

Todays Beets: