Monday, October 26, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

योगी सरकार ने गाजियाबाद में डिटेंशन सेंटर खोलने का अपना फैसला वापस लिया , जमकर हो रहा था विरोध

अंग्वाल न्यूज डेस्क
योगी सरकार ने गाजियाबाद में डिटेंशन सेंटर खोलने का अपना फैसला वापस लिया , जमकर हो रहा था विरोध

लखनऊ । उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने फैसला लिया है कि अब वह गाजियाबाद में खोलने जा रहे डिटेंशन सेंटर के प्रोजेक्ट को आगे नहीं बढ़ाएंगे । सरकार ने अपने इस फैसले को वापस ले लिया है । बसपा प्रमुख मायावती समेत कुछ अन्य विपक्षी दलों के नेताओं ने सरकार के इस फैसले का विरोध किया था , जिसके बाद अब यह फैसला वापस लेने का ऐलान हुआ है। 

आपको बता दें कि पूर्व में योगी सरकार गाजियाबाद में डिटेंशन सेंटर बनाए जाने का ऐलान किया था और इसके निर्माण कार्य को मंजूरी भी दे दी थी । इसका निर्माण राज्य सरकार के समाज कल्याण द्वारा किया जाना था ।  

बता दें कि विदेशी अनिधिनियम, पासपोर्ट एक्ट का उल्लंघन करने वाले विदेशी नागरिकों को तब तक डिटेंशन सेंटर में रखा जाता है, जब तक कि उनका प्रत्यर्पण न हो जाए। 


असल में यूपी की जेलों में सजा काट रहे विदेशी लोग और जो सजा काट चुके हैं उन्हें उनके देश भेजने में होने वाली देरी के मद्देनजर यूपी सरकार ने गाजियाबाद में एक डिटेंशन सेंटर खोलने का फैसला लिया था । केंद्र सरकार की ओर से हरी झंडी मिलने के बाद ही योगी सरकार ने इसके लिए आदेश जारी किया था । इस डिटेंशन सेंटर पर ऐसे विदेशी लोगों को रखे जाने का प्रावधान था ।

हालांकि योगी सरकार के फैसले के बाद बसपा प्रमुख मायावती ने जमकर विरोध किया था । उन्होंने अपने बयान में कहा था कि गाजियाबाद में बीएसपी सरकार द्वारा निर्मित बहुमंजिला डॉ. अंबेडकर एससी/एसटी छात्र हॉस्टल को 'अवैध विदेशियों' के लिए यूपी के पहले डिटेंशन सेंटर के रूप में कन्वर्ट करना अति-दुःखद व अति-निन्दनीय । यह सरकार की दलित-विरोधी कार्यशैली का एक और प्रमाण । सरकार इसे वापस ले बीएसपी की यह मांग । 

 

Todays Beets: