Wednesday, September 30, 2020

Breaking News

   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||   अभिनेत्री कंगना रनौत-बीएमसी मामले में सुनवाई स्थगित     ||   सुशांत केस - जांच में देरी पर CBI बोली - हम हर एंगल की बारीकी और प्रोफेशनल तरीके से कर रहे हैं जांच    ||   कप्तान धोनी ने IPL2020 की शुरुआत जीत से की,जानिये कैसे ?     ||   लखनऊ: यूपी में आकाशीय बिजली से हुई मौत के मामले में परिजनों को 4 लाख मुआवजा     ||   कोरोना काल में भाजपा सरकार ने अनेक ख्याली पुलाव पकाए, लेकिन एक सच भी था? -राहुल गांधी     ||

गहलोत भाजपा-राज्यपाल पर बिफरे - कहा- देश में ऐसा नंगा नाच नहीं देखा , भाजपा ने हमारे विधायकों को बंधक बनाया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गहलोत भाजपा-राज्यपाल पर बिफरे - कहा- देश में ऐसा नंगा नाच नहीं देखा , भाजपा ने हमारे विधायकों को बंधक बनाया

जयपुर । राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को हाईकोर्ट से झटका लगने के बाद भाजपा और राज्य के राज्यपाल पर हमला बोला । उन्होंने कहा कि हरियाणा में भाजपा ने हमारे विधायकों को बंधन बनाया है । वहीं उन्होंने कहा कि राजभवन भी ऊपर के दबाव में हमें सोमवार को विधानसभा सत्र बुलाने की इजाजत नहीं रहा है । उन्होंने राज्यपाल कलराज मिश्र पर भी हमला बोलते हुए कहा कि हमारे पास स्पष्ट बहुमत है , बावजूद इसके राज्यपाल हमें मिलने का समय नहीं दे रहे हैं , न ही हमें विधानसभा सत्र बुलाने की अनुमति नहीं दी है । ऐसे में राजभवन का घेराव अगर जनता और विधायक करेंगे तो फिर हमारी कोई जिम्मेदारी नहीं होगी । हालांकि इस दौरान राज्यपाल कलराज मिश्र ने भी साफ कर दिया है कि अभी स्थिति ठीक नहीं है भाजपा और कांग्रेस के कुछ विधायक कोरोना से ग्रसित हैं , ऐसे में अभी विधानसभा का सत्र बुलाना ठीक नहीं होगा।

बता दें कि राजस्थान सरकार के बागी विधायकों के खिलाफ विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी के नोटिस पर शुक्रवार को जयपुर हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया । कोर्ट ने विधानसभा स्पीकर और सीएम अशोक गहलोत को झटका देते हुए नोटिस के आधार पर बागी विधायकों को अयोग्य घोषित किए जाने पर रोक लगा दी है । 


इसके बाद सीएम अशोक गहलोत ने राज्यपाल से मिलने का समय मांगा था ताकि वह सोमवार से विधानसभा सत्र बुला सकें और उस मुद्दे पर चर्चा कर सकें , लेकिन सियासी उठापटक के बीच अशोक गहलोत मीडिया के सामने आए । उन्होंने कहा - आज राजस्थान में हमारे लोगों पर ईडी और सीबीआई के लगातार छापे डलवाए जा रहे हैं । उन्होंने कहा कि इस समय हरियाणा में भाजपा ने हमारे विधायकों को बंधक बनाया हुआ है । राजभवन ऊपर वालों के दबाव में विधानसभा सत्र बुलाने की मंजूरी नहीं दे रहा । विधानसभा सत्र बुलाने से फैसला हो जाएगा । हमारे पास स्पष्ट बहुमत है । देश में ऐसा नंगा नाच नहीं देखा जो आज देखने को मिल रहा है । 

उन्होंने कहा कि राज्यपाल किसी के दबाव में न आए , आपने शपथ ली है , आप अपनी अंतरआत्मा के आधार पर फैसला लें , लोकतंत्र को बचाने की जिम्मेदारी आपके पास है । ऐसे में प्रदेश की जनता राजभवन घेरने आ गई तो हमारी जिम्मेदारी नहीं होगी ।

Todays Beets: