Tuesday, July 16, 2019

Breaking News

   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||   मनी लॉन्ड्रिंग कानून से जुड़ी कांग्रेस सांसद की याचिका पर SC का केंद्र सरकार को नोटिस    ||   पीएम मोदी लोकसभा में ट्रिपल तलाक बिल पास करने के वक्त सांसदो की कम उपस्थिती पर नाराज    ||   सोनिया गांधी ने लोकसभा में रायबरेली की रेल कैच फैक्टरी का मुद्दा उठाया    ||   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||

भाजपा युवा मोर्चा अध्यक्ष मोहित भारतीय विलफुल डिफॉल्टर घोषित , बैंक ने तस्वीर अखबार में छपवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भाजपा युवा मोर्चा अध्यक्ष मोहित भारतीय विलफुल डिफॉल्टर घोषित , बैंक ने तस्वीर अखबार में छपवाई

मुंबई । भारतीय जनता युवा मोर्चा , मुंबई के अध्यक्ष मोहित भारतीय को बैंक ऑफ बड़ौदा ने विलफुल डिफॉल्टर घोषित किया है । इतना ही नहीं बैंक ने उनकी और जितेंद्र कपूर की तस्वीर लगाकर उन्हें कसूरवार कर्जदार घोषित करते हुए उनकी तस्वीर बतौर डिफॉल्टर अखबार में प्रकाशित की है । बैंक के मुताबिक अव्यान ऑर्नामेंट्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ने बैंक से कर्ज लिया था लेकिन बाद में कर्ज लौटाया नहीं । वहीं मोहित भारतीय ने बैंक के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर करने की चेतावनी दी है ।

इतना ही नहीं मोहित ने अपनी सफाई में एक पत्र जारी कर लिखा है कि वो कंपनी में पार्टनर नहीं बल्कि कर्ज में पर्सनल गारंटर थे । उन्होंने पिछले 2 सालों में अपने हिस्से का 76 करोड़ रुपये लौटा भी दिया है ।

मोहित ने पत्र में लिखा, '2014 के इस मामले में लोअर कोर्ट से बैंक ऑफ बड़ौदा पहले मुकदमा हार चुकी है जो ऑन द रिकॉर्ड है । बैंक ऑफ बड़ौदा ने जिस कंपनी का जिक्र करते हुए मेरी फोटो प्रकाशित की है, मैं उस कंपनी का प्रमोटर नहीं था, केवल पर्सनल गारंटर था । भारतीय ने अपने पत्र में आगे लिखा है कि पर्सनल गारंटर के तौर पर मैंने दो साल में 76 करोड़ रुपए की अपने हिस्से की राशि चुका दी । इस मामले में कोर्ट का फैसला मेरे पक्ष में आया है । अगर बैंक साबित कर दे कि मेरे ऊपर कोई पैसा बकाया है तो मैं पाई पाई चुका दूंगा।'

 


 

 

 

 

Todays Beets: