Tuesday, November 24, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

सिर्फ बकैती नहीं बल्कि तेजस्वी - चिराग को जमीनी स्तर से राजनीति की शुरुआत करनी चाहिए - पुष्पम प्रिया चौधरी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सिर्फ बकैती नहीं बल्कि तेजस्वी - चिराग को जमीनी स्तर से राजनीति की शुरुआत करनी चाहिए - पुष्पम प्रिया चौधरी

पटना । बिहार विधानसभा चुनावों के अंतिम चरण के मदतान के लिए शनिवार को मतदान जारी है । इस सबके बीच प्लूरल्स पार्टी की अध्यक्ष पुष्पम प्रिया चौधरी ने राष्ट्रीय जनता दल और उसके नेताओं की राजनीति पर जमकर हमला किया है । पुष्पम प्रिया चौधरी ने कहा कि तेजस्वी यादव और लोजपा नेता चिराग पासवान को अपना राजनीतिक करियर जमीनी स्तर से शुरू करना चाहिए । इन दोनों नेताओं के चुनावों के चलते सिर्फ बकैती करने से बिहार बदलने वाला नहीं है । 

बिहार की राजनीति पर प्रिया ने कहा कि नए राजनेताओं के द्वारा राजनीति करने में कोई दिक्कत नहीं है । लेकिन चाहिए कि पहले नेता अपनी पढ़ाई-लिखाई पूरी करें, सीखें कि कैसे नीतियां बनाएंगे ।  सिर्फ बकैती करने से राज्य नहीं चलेगा न ही सिर्फ भाषण देने से । चुनाव के बाद नीतियां बनानी होंगी । सब कुछ जमीन से शुरू करें और परिवारवाद को खत्म  करें । इस दौरान कहा कि संविधान में परिवारवाद को खत्म करने के लिए नियम बनाने की जरूरत है । 


वह बोली - बिहार को बदलना है । उनकी पार्टी को हर समुदाय से समर्थन मिल रहा है । वह बोलीं - हम आगे तभी बढ़ पाएंगे जब लालू यादव और नीतीश कुमार से मुक्ति पाएंगे । नीतीश कुमार कहते हैं कि यह उनका अंतिम चुनाव है, मगर वह चुनाव ही कहां लड़े? अगर वह मुख्यमंत्री उम्मीदवार के तौर पर बोल रहे हैं तो यह नहीं होना चाहिए था । 

 

Todays Beets: