Saturday, January 16, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

जल्द ही रेल ट्रैक से जुड़ेंगे चार धाम

जल्द ही रेल ट्रैक से जुड़ेंगे चार धाम

नई टिहरी। चारधाम के दर्शन करने वाले दर्शनार्थियों को रेलवे की तरफ से जल्द सौगात मिलने वालीहै। रेलवे ट्रैक के जरिए चार धाम को जोड़ने पर विचार कर रहा है। रेलवे विकास निगमके अधिकारियों ने चार धाम रेलवे ट्रैक की फिजिबिलिटी रिपोर्ट रेलवे बोर्ड को सौंपदी है। निगम के मुताबिक 600 किमी लंबे इसचार धाम ट्रैक से यात्रियों को बेहद लाभ मिलेगा। रेलवे विकास निगम के अधिकारियोंने जिला मुख्यालय नई टिहरी में ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे ट्रैक के संबंध मेंप्रजेंटेशन दिया। इस दौरान निगम के सहायक महाप्रबंधक सुमित जैन ने बताया कि रेलवेनिगम ने उत्तराखंड के गंगोत्री, यमुनोत्री, बदरीनाथ औरकेदारनाथ को रेलवे ट्रैक से जोड़ने का फिजिबिलिटी सर्वे पूरा कर दिया है। पिछलेसाल नवंबर में यह सर्वे रिपोर्ट रेलवे बोर्ड को सौंप दी थी। 600 किलोमीटर लंबे इस ट्रैक के जरिएचारों धाम की यात्र रेल से की जा सकेगी। केदारनाथ के लिए श्रीनगर या मलेथा से अलगलाइन देनी की बात रिपोर्ट में कही गई है। जबकि गंगोत्री और यमुनोत्री के लिएडोईवाला या फिर मलेथा से ही अलग लाइन दी जा सकेगी। अब केंद्र सरकार अगर इसप्रस्ताव को मानती है तो चारों धाम का सफर रेल से करने की सुविधा श्रद्धालुओं कोमिल सकेगी। रेल अधिकारी सुमित जैन ने बताया कि ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे लाइन कासर्वे पूरा हो चुका है और अब राज्य सरकार से भूमि हस्तांतरण बाकी है। 125 किलोमीटर लंबे ट्रैक में 105 किलोमीटर का ट्रैक सुरंगों के अंदरसे जाएगा। 12 रेलवे स्टेशनबनाए जाएंगे। रेल विकास निगमके पास बजट भी आ गया है। अब राज्य सरकार से जमीन हस्तांतरण की प्रक्रिया बाकी है।जमीन मिलते ही रेलवे अपना काम शुरु कर देगा। 


  

Todays Beets: