Friday, June 5, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

जल्द ही रेल ट्रैक से जुड़ेंगे चार धाम

जल्द ही रेल ट्रैक से जुड़ेंगे चार धाम

नई टिहरी। चारधाम के दर्शन करने वाले दर्शनार्थियों को रेलवे की तरफ से जल्द सौगात मिलने वालीहै। रेलवे ट्रैक के जरिए चार धाम को जोड़ने पर विचार कर रहा है। रेलवे विकास निगमके अधिकारियों ने चार धाम रेलवे ट्रैक की फिजिबिलिटी रिपोर्ट रेलवे बोर्ड को सौंपदी है। निगम के मुताबिक 600 किमी लंबे इसचार धाम ट्रैक से यात्रियों को बेहद लाभ मिलेगा। रेलवे विकास निगम के अधिकारियोंने जिला मुख्यालय नई टिहरी में ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे ट्रैक के संबंध मेंप्रजेंटेशन दिया। इस दौरान निगम के सहायक महाप्रबंधक सुमित जैन ने बताया कि रेलवेनिगम ने उत्तराखंड के गंगोत्री, यमुनोत्री, बदरीनाथ औरकेदारनाथ को रेलवे ट्रैक से जोड़ने का फिजिबिलिटी सर्वे पूरा कर दिया है। पिछलेसाल नवंबर में यह सर्वे रिपोर्ट रेलवे बोर्ड को सौंप दी थी। 600 किलोमीटर लंबे इस ट्रैक के जरिएचारों धाम की यात्र रेल से की जा सकेगी। केदारनाथ के लिए श्रीनगर या मलेथा से अलगलाइन देनी की बात रिपोर्ट में कही गई है। जबकि गंगोत्री और यमुनोत्री के लिएडोईवाला या फिर मलेथा से ही अलग लाइन दी जा सकेगी। अब केंद्र सरकार अगर इसप्रस्ताव को मानती है तो चारों धाम का सफर रेल से करने की सुविधा श्रद्धालुओं कोमिल सकेगी। रेल अधिकारी सुमित जैन ने बताया कि ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे लाइन कासर्वे पूरा हो चुका है और अब राज्य सरकार से भूमि हस्तांतरण बाकी है। 125 किलोमीटर लंबे ट्रैक में 105 किलोमीटर का ट्रैक सुरंगों के अंदरसे जाएगा। 12 रेलवे स्टेशनबनाए जाएंगे। रेल विकास निगमके पास बजट भी आ गया है। अब राज्य सरकार से जमीन हस्तांतरण की प्रक्रिया बाकी है।जमीन मिलते ही रेलवे अपना काम शुरु कर देगा। 


  

Todays Beets: