Thursday, October 22, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

कांग्रेस में ''चिट्ठी कांड'' के बाद राजबब्बर- आरपीएन सिंह - जितिन प्रसाद के पर कतरे गए , यूपी की चार कमेटियों में नहीं किया शामिल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कांग्रेस में

लखनऊ । कांग्रेस में पिछले दिनों हुए ''चिट्ठी कांड'' के बाद अब कुछ बागी नजर आ रहे कांग्रेसियों के पर कतरने शुरू हो गए हैं । इसी क्रम में और आगामी यूपी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर कांग्रेस ने कुछ कोर कमेटियों का गठन किया है । हालांकि यूपी की इन कमेटियों में से किसी में भी पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और पूर्व सांसद जितिन प्रसाद और आरपीएन सिंह को शामिल नहीं किया गया है । असल में इन दोनों नेताओं ने उस चिट्ठी पर हस्ताक्षर किए थे , जिसमें सोनिया गांधी को पार्टी का नेतृत्व बदलने और संगठन में व्यापक बदलाव की मांग की गई थी । राहुल गांधी ने इस चिट्ठी के समय पर सवाल उठाते हुए ऐसे लोगों को भाजपा के इशारे पर काम करने वाला करार दिया था। 

असल में पार्टी महासचिव केसी वेणुगोपाल ने रविवार को यूपी के लिए घोषणा पत्र समिति, आउटरीच समिति, सदस्यता समिति और कार्यक्रम कार्यान्वयन समिति के सदस्यों के नाम जारी किए। इनमें 27 वरिष्ठ कांग्रेस सदस्यों को शामिल किया गया है , जिसमें यूपी के कुछ दिग्गज नेताओं मसलन सलमान खुर्शीद, प्रमोद तिवारी, राशिद अल्वी, नूर बानो, अनुग्रह नारायण को शामिल किया गया है। लेकिन यूपी के कुछ दिग्गज नेताओं को इन समितियों में शामिल नहीं किए जाने पर पार्टी की तरह से एक वरिष्ठ नेता ने कहा - राज बब्बर और जितिन प्रसाद को भविष्य में महत्वपूर्ण भूमिका दी जाएगी।

विदित हो कि यूपी में विधानसभा चुनाव 2022 को ध्यान में रखते हुए रविवार को कांग्रेस ने चार कोर कमेटियों की घोषणा की। इन कमेटियों में राज्य के कुछ प्रमुख नेताओं को जगह नहीं दी गई है । कहा जा रहा है कि इन नेताओं को पिछले दिनों गांधी परिवार के खिलाफ झंडा बुलंद करने वालों की सूची में डाला गया था , और इन लोगों ने सोनिया गांधी को नेतृत्व परिवर्तन वाली चिट्ठी पर साइन भी किए थे । 

वहीं इस घटनाक्रम पर राजब्बर ने कहा कि उपयुक्त लोगों को सही कामों के लिए चुना गया है। मुझे यकीन है कि वे अच्छा काम करेंगे। जहां तक मेरा सवाल है तो मैंने यूपी छोड़ दिया है। 

कांग्रेस की नई समितियों में ये हैं सदस्य 

मीडिया और संचार सलाहकार समिति – राशिद अल्वी, ललितेशपति त्रिपाठी, अखिलेश प्रताप सिंह, सुरेंद्र राजपूत, ओंकार सिंह, विरेंद्र मदान। कम्युनिकेश डिपार्टमेंट के चेयरमैन इसके पदेन सदस्य होंगे।

विस्तार समिति – प्रमोद तिवारी, प्रदीप जैन आदित्य, गजराज सिंह, नसीमुद्दीन सिद्दीकी, इमरान मसूद, बाल कुमार पटेल। सभी प्रदेश उपाध्यक्ष भी इसके सदस्य होंगे।


सदस्यता समिति – अनुग्रह नारायण सिंह, अजय कपूर, बृजलाल खाबरी, मोहम्मद मुकीम, कमल किशोर कमांडो, अजय राय।

घोषणापत्र समिति – सलमान खुर्शीद, पीएल पुनिया, आराधना मिश्रा, विवेक बंसल, सुप्रिया श्रीनेत, अमिताभ दुबे।

कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति – नूर बानो, हरेंदर मलिक, प्रवीन ऐरॅन, जितेंद्र सिंह, बालकृष्ण चौहान, नसीब पठान, बंसी पहाड़िया, राम जियावन, प्रीता हरित।

पंचायत इलेक्शन कमिटी – राजेश मिश्र, जफर अली नकवी, राजाराम पाल, प्रदीप माथुर, विनोद चतुर्वेदी, मसूद अख्तर, अजय पाल सिंह। राजीव गांधी पंचायत राज संगठन के प्रदेश अध्यक्ष भी सदस्य होंगे।

प्रशिक्षण और काडर डिवेलपमेंट समिति – डॉ. निर्मल खत्री, हरेंद्र अग्रवाल, हनुमान त्रिपाठी, सतीश राय, डॉली शर्मा, केशव चंद्र यादव।

 

Todays Beets: