Friday, February 26, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

दिल्ली चांदनी चौक में रातों रात सामने आया हनुमान मंदिर , सौंदर्यीकरण के नाम पर हटाया गया था

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली चांदनी चौक में रातों रात सामने आया हनुमान मंदिर , सौंदर्यीकरण के नाम पर हटाया गया था

नई दिल्ली । दिल्ली के चांदनी चौक में जिस हनुमान मंदिर के तोड़े जाने पर सत्तारूढ़ आप और भाजपा के बीच जुबानी जंग के साथ ही धरना प्रदर्शन का दौर शुरू हुआ था , वह मंदिर एकाएक रातों रात बनकर तैयार हो गया है । शुक्रवार को जब इलाके के लोग मंदिर के करीब की जगह से निकले तो उन्होंने हनुमान मंदिर को फिर से अस्तित्व में पाया । इस सबके बाद आज वहां पूजा करने वालों की भीड़ लग गई है । नए मंदिर को लोहे और स्टील से बनाया गया है । 

बता दें कि गत जनवरी में चांदनी चौक के सौंदर्यीकरण के नाम पर हनुमान मंदिर को तोड़ दिया गया था , लेकिन उत्तर दिल्ली नगर निगम ने इस पर सफाई देते हुए कहा था कि मंदिर को तोड़ा नहीं गया है बल्कि शिफ्ट किया गया है । इसे लेकर आम आदमी पार्टी और भाजपा के नेताओं में काफी जुबानी जंग हुई । इतना ही नहीं इस मंदिर को दोबारा बनाए जाने के मांग करते हुए कई हिंदू संगठनों ने धरना प्रदर्शन भी किया था । 

इस मंदिर को लेकर भाजपा कांग्रेस समेत आम आदमी पार्टी के नेताओं ने एक दूसरे पर कई आरोप लगाए थे । असल में 2015 के कोर्ट के एक ऑर्डर में विकास कार्यों के आड़े आने वाले धार्मिक स्थलों को हटाने की बात कही गई थी , जिसे 2020 में फिर से दोहराया गया ।


इसी को आधार बनाते हुए चांदनी चौक के सौंदर्यीकरण के काम में बाधक मानते हुए इस मंदिर को हटा दिया गया था , लेकिन करीब 50 साल पुराने इस मंदिर को लेकर काफी राजनीति हुई और आखिरकर अब जाकर यह मंदिर एक बार फिर से अपनी पूर्व की जगह पर ही नया बनकर तैयार हो गया है । स्थानीय लोगों ने इस मंदिर के फिर से बनने पर खुशी जाहिर की है । 

 

Todays Beets: